कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष गणेश गोदियाल ने आर्य की वापसी पर कहा, खेल भाजपा ने शुरू किया, खत्म कांग्रेस करेगी

देहरादूनः हाल ही में भाजपा छोड़ कांग्रेस में वापसी करने वाले मौजूदा बीजेपी सरकार के पूर्व कैबिनेट मंत्री यशपाल आर्य व उनके पुत्र नैनीताल विधायक संजीव आर्य के बाद अभी कुछ और नेता भी कांग्रस में वापसी कर सकते हैं। यह संकेत कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष गणेश गोदियाल व नेता प्रतिपक्ष प्रीतम सिंह ने दिए। मंगलवार को राजीव भवन में प्रेस कांफ्रेस कर गणेश गोदियाल ने कहा कि कई लोग कांग्रेस के संपर्क में हैं, जो लोकतंात्रिक विचाराधारा का समर्थन करते हैं। वहीं कहा कि सिर्फ कांग्रेस पार्टी ही लोकतांत्रिक विचारधारा रखने वाली पार्टी है।

प्रेसवार्ता के दौरान गोदियाल ने कहा कि विधानसभा चुनाव.2022 के लिए कांग्रेस पूरी तरह तैयार है। उन्होंने दावा किया कि कांग्रेस भारी मतों से जीत दर्ज कर उत्तराखंड में सरकार बनाएगी। कांग्रेस का चरित्र नहीं है कि वो किसी दल के साथ छेड़छाड़ करे। लेकिन यह खेल भाजपा ने शुरू किया था, और अब कांग्रेस इसे खत्म करेगी। कहा कि मैंने पहले ही यह बात कही थी कि कुछ समय इंतजार करो।

उन्होंने आगे कहा कांग्रेस लोकतांत्रिक व्यवस्था का सम्मान करती है। लेकिन यदि वर्ष 2016 और अभी हाल में भाजपा ने जो हरकत की है, यदि आगे हुई तो कांग्रेस चट्टान की तरह खड़ी है।हम लोकतांत्रिक व्यवस्था पर विश्वास करते हैं। यदि भाजपा ने आगे भी इस प्रकार शिगूफे छोड़े तो ध्यान रहें हमारे पास भी बड़े बड़े पटाखे हैं।

आर्य की कांग्रेस में वापसी को लेकर गोदियाल ने भाजपा पर आरोप लगाते हुए कहा कि वह और उनके पुत्र कांग्रेस में बिना शर्त कांग्रेस में आए हैं।कहा आर्य ने बताया कि एससी छात्रों की छात्रवृत्तियां नहीं दी जा रही थी। किसानों के उत्पीड़न को लेकर भी काफी नाराज थे। इसी वजह से वो कांग्रेस में लौट आए। कांग्रेस ही लोकतांत्रिक मूल्यों पर चलने वाली एक मात्र पार्टी है।

वही इसी को लेकर विधानसभा में मीडिया से बातचीत में नेता प्रतिपक्ष प्रीतम सिंह ने कहा कि मैंने शुरू से कहा है कि राजनीति में कभी दरवाजे बंद नहीं होते। लोग आते भी हैं और जाते भी। तमाम लोग कांग्रेस के संपर्क में है। उन्होंने संकेत देते हुए कहा देखते रहिए आगे आगे होता है क्या

Previous articleठगी होने पर जल्द 155260 नंबर पर करें कॉल
Next articleआंगनबाड़ी बहनों को दी सौगात, डीबीटी के माध्यम से प्रदान की प्रोत्साहन राशि