Uttarakhand weather Update: ऋषिकेश-देहरादून मुख्य मार्ग पर टूटकर गिर भारी भरकम पेड़, यातायात रहा बाधित

658

ऋषिकेश देहरादून मुख्य मार्ग पर वन विभाग की चौकी से करीब 200 मीटर आगे एक भारी-भरकम पेड़ टूटकर सड़क पर गिर गया। जिससे यहां यातायात बाधित हो गया है। रेंज अधिकारी एमएस रावत बताया कि गुरुवार की सुबह करीब नौ बजे एक पेड़ टूटकर सड़क पर गिर गया। किस कारण यहां यातायात बाधित हो गया। वन विभाग की टीम ने करीब एक घंटे बाद सड़क के एक किनारे से पेड़ को काटकर यातायात सामान्य किया।

उत्तराखंड के आठ जिलों में भारी बारिश की चेतावनी

प्रदेश में मानसून की बारिश जारी है। वहीं लगातार बारिश के कारण प्रदेश में 60 मार्ग बाधित हैं। बुधवार को गंगोत्री हाईवे भी मलबा आने से करीब आठ घंटे बाधित रहा। हालांकि, बदरीनाथ, केदारनाथ और यमुनोत्री हाईवे पर आवाजाही सुचारू हो गई है। मौसम विज्ञान केंद्र के निदेशक बिक्रम सिंह के अनुसार, गुरुवार को देहरादून, पौड़ी, हरिद्वार, टिहरी, चमोली, पिथौरागढ़, नैनीताल और बागेश्वर में भारी से भारी बारिश की आशंका है। शुक्रवार के लिए भी इन जिलों में ऑरेंज अलर्ट जारी किया गया है।

यह भी पढ़े :    सरकारी कार्यालयों पर 62.47 लाख हाउस टैक्स बकाया, नोटिस देने की तैयारी में निगम

चमोली में बदरीनाथ हाईवे कई जगह बंद

चमोली में बदरीनाथ राष्ट्रीय राजमार्ग क्षेत्रपाल, चमोली, पागलनाला, हिलेरी पार्क (नन्दप्रयाग) और लामबगड़ में  बाधित है। कर्णप्रयाग-थराली मोटर मार्ग पर हरमनी एंव मल्यापौड में बन्द है एंव मण्डल- चोपता मार्ग, गोपेश्वर-पोखरी-हापला मार्ग भी बंद है।

देहरादून में झमाझम बारिश से सड़कें जलमग्न, घरों में घुसा पानी

दून में बुधवार दोपहर बाद और रात को हुई झमाझम बारिश ने दुश्वारियां बढ़ा दीं। तेज बारिश से नदी-नाले उफान पर आ गए और शहर के तमाम चौराहे व सड़कें जलमग्न हो गईं। कई इलाकों में बारिश का पानी घर में घुस गया, जबकि गोविंदगढ़ में एक स्कूल की दीवार ढह गई।

दून में बारिश के कारण नुकसान का सिलसिला जारी है। बिंदाल नदी का पानी गोविंदगढ़ में स्नेहा दून एकेडमी की दीवार को तोड़ते हुए स्कूल परिसर और राजीव कॉलोनी में घरों में घुस गया। इसके अलावा टीचर्स कॉलोनी, मित्रलोक कॉलोनी में बारिश का पानी घरों में घुसने से नुकसान हुआ। पिछले 15 दिनों में तीसरी बार बिंदाल नदी के उफान पर आने से क्षेत्रवासियों की दिक्कतें बढ़ गईं। इसके अलावा भी कई अन्य क्षेत्रों में घरों में पानी घुसने से नुकसान हुआ।

भाजपा विधायक और कांग्रेस उपाध्यक्ष ने किया निरीक्षण

बारिश से हुए नुकसान की सूचना पर कैंट विधायक हरबंस कपूर गोविंदगढ़ पहुंचे और नुकसान का जायजा लिया। इस दौरान क्षेत्रवासियों ने मांग की कि कॉलोनी में नदी से सटे भाग पर सुरक्षा इंतजाम कराए जाएं। इससे पहले प्रदेश कांग्रेस उपाध्यक्ष सूर्यकांत धस्माना भी निरीक्षण को पहुंचे। उन्होंने सुरक्षा के लिए व्यवस्था नहीं होने पर नाराजगी जताई।

यहां हुआ जलभराव

चकराता रोड स्थित मित्र लोक कॉलोनी, दीप लोक कॉलोनी, सेवला कलां, बुद्धा चौक, अमरदीप कॉलोनी, कांवली रोड, प्रिंस चौक, एस्ले हॉल चौक, कनक चौक, दून अस्पताल चौक, बंगाली कोठी, विद्या विहार, बदरीश कॉलोनी, भगतसिंह कॉलोनी, मोरोवाला, मोथरोवाला, आइएसबीटी चौक, शिमला बाईपास आदि क्षेत्रों में बारिश का पानी भर गया।

कई क्षेत्रों में गंदे पानी की आपूर्ति

मानसून की बारिश के साथ शहर में दूषित पानी की समस्या भी बढ़ती जा रही है। कई कॉलोनियों में लोग दूषित पानी की आपूर्ति से परेशान हैं। क्षेत्रवासियों का आरोप है कि लगातार शिकायत के बाद भी इस परेशानी को लेकर जल संस्थान गंभीरता नहीं दिखा रहा है, जबकि जल संस्थान के अधिकारी शिकायतों के त्वरित निस्तारण का दावा कर रहे हैं।

राजेश रावत कॉलोनी में पानी के साथ मिट्टी भी पहुंच रही है। इस कारण कई दिन से लोग पीने के पानी की वैकल्पिक व्यवस्था कर रहे हैं। इसी तरह बंजारावाला स्थित आजाद विहार के लोग भी दूषित पानी की शिकायत कर रहे हैं। क्षेत्रवासियों का आरोप है कि दूषित पानी पीने से बच्चों और बुजुर्गो को पेट संबंधी बीमारियां अपनी चपेट में ले रही हैं। आरकेडिया, स्मिथनगर, कृष्णा विहार, राघव विहार आदि में भी गंदे पानी की समस्या है। वहीं, चंद्रबनी स्थित अमरभारती कॉलोनी में तो बीते एक सप्ताह से आपूर्ति ही ठप है। ऐसे में स्थानीय निवासियों को अपने खर्च पर पानी के टैंकर मंगाने पड़ रहे हैं। चंद्रबनी चोइला क्षेत्र में भी पिछले कुछ दिनों से दूषित पानी की समस्या बनी हुई है।

नीलिमा गर्ग (प्रबंध निदेशक, जल संस्थान) का कहना है कि कई इलाकों से दूषित पानी की शिकायतें आ रही हैं। पेयजल लाइनों को दुरुस्त करने के लिए कर्मचारियों को निर्देशित किया गया है। जिन इलाकों से क्षतिग्रस्त लाइनों की शिकायत मिल रही है, वहां त्वरित कार्रवाई की जा रही है।