Uttarakhand Weather Update: देहरादून में अतिवृष्टि से भारी नुकसान, कई मकानों को खतरा

624

 देहरादून में गुरुवार देर रात रिकॉर्ड बारिश के कारण जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया। करीब साढ़े चार घंटे हुई मूसलाधार बारिश से कई इलाकों में भारी नुकसान हुआ। कई मकानों को क्षति पहुंची है तो कई पानी और बिजली की लाइनें भी टूट गईं। यही नहीं पुश्ते ढहने और भू-कटाव से कई मकानों को खतरा पैदा हो गया है।

गुरुवार को रात करीब सवा दस बजे शुरू हुई मूसलाधार बारिश दून में आफत बनकर बरसी। सहस्रधारा रोड व रायपुर क्षेत्र में बहुत भारी बारिश से नदी-नाले उफान पर आ गए। शहर में बिजली के तीन पोल क्षतिग्रस्त हो गए, जबकि आधा दर्जन से अधिक पेयजल लाइनों को भी नुकसान पहुंचा।

यह भी पढ़े :   एनएच-74 मुआवजा घोटाले में आइएएस चंद्रेश को क्लीन चिट

शहर की अधिकतर कॉलोनियों में सड़कें तालाब बन गईं और कई घरों में पानी घुस गया। आपदा प्रबंधन केंद्र ने संबंधित विभागों को तड़के ही सूचित कर दिया था। जिसके बाद राज्य आपदा राहत बल की टीम सहित अन्य विभागों की टीमें भी मौके पर पहुंचकर राहत कार्य में जुट गईं।

दून में यहां बरसी आफत

दून के रायपुर अपर और नथुआवाला में भारी बारिश से भू-कटाव, जल भराव और नदियां उफान पर आ गईं। नेहरूग्राम, वैष्णव विहार, जाखन के विवेक विहार में जल भराव और भू-कटाव से कई मकानों को खतरा पैदा हो गया। शांति विहार में दीवार तोड़कर पानी घरों में घुस गया। भगत सिंह कॉलोनी में दो बिजली के पोल गिर गए। पटेल नगर में एक पोल और ऋषि विहार सहस्रधारा रोड पर एक पोल गिरने की कगार पर पहुंच गया। इसके अलावा बिंदाल नदी के उफान पर आने से पटेलनगर क्षेत्र में तीन मकानों को नुकसान पहुंचा। देहराखास के वसुंधरा एन्क्लेव में भू-धंसाव से एक मकान को नुकसान पहुंचा।

कैनाल रोड पर पुश्ता ढहने और भू-कटाव से करीब 22 मकानों को खतरा बना हुआ है। राजपुर क्षेत्र में भी एक मकान को नुकसान पहुंचने की सूचना है। इधर, रायपुर बस स्टैंड में जल भराव हो गया। जबकि, सपेरा बस्ती में एक कच्चा मकान बरसाती नाले में बह गया। अन्य मकानों को आंशिक नुकसान पहुंचा है।

विष्णु लोक कॉलोनी में बारिश का पानी घरों में घुस गया। इसके अलावा रायपुर, सहस्रधारा और राजपुर क्षेत्र में दर्जनभर पेयजल लाइन क्षतिग्रस्त हो गई हैं। जिससे शुक्रवार को कई घरों में पेयजल भी नहीं आया है। रायपुर क्षेत्र में दुल्हनिया नदी के उफान पर आने से दो परिवार फंस गए थे, जिन्हें एसडीआरएफ की टीम ने सुरक्षित स्थान पर पहुंचाया। साथ ही जाखन में सड़क पर गिरे विशालकाय पेड़ को भी हटा दिया गया है।

मलबा आने से मसूरी-टिहरी हाईवे आठ घंटे बाधित

गुरुवार रात को हुई मूसलाधार बारिश से मसूरी के आसपास के दर्जनों स्थानों पर भूस्खलन हुआ। कई जगह पुश्ते दरके हैं। गुरुवार को देर रात मसूरी-टिहरी हाईवे संयुक्त सिविल अस्पताल के पास मलबा आने से आठ घंटे बाधित रहा। देर रात अवरुद्ध हुए मार्ग को सुबह 11 बजे जेसीबी खुलवाया गया। इस दौरान सड़क के दोनों ओर वाहनों की कतारें लगी रहीं। जबकि, मसूरी-चकराता मार्ग भी कैंपटी फॉल से चार किमी आगे कांडीखाल पुल के समीप चार घंटे बंद रहा।

किंक्रेग में मसूरी महाविद्यालय के समीप पुश्ता दरकने से देहरादून मार्ग बाधित हो गया और पुश्ते के ऊपर बने भवन को भी खतरा पैदा हो गया। वहीं, झड़ीपानी क्षेत्र में भी पुश्ता गिरने से मकान को नुकसान पहुंचा। बाटाघाट-मसूरी के बीच अनेक स्थानों पर भूस्खलन से सड़क पर मलबा आ गया। बार्लोगंज व भट्टा गांव में भी बारिश से नुकसान की सूचना है।