Uttarakhand Forest Fire News: कुदरत ने बुझाई उत्‍तराखंड के जंगलों की आग, वन महकमे ने ली राहत की सांस

16

उत्तराखंड में दहशत और चिंता का सबब बनी जंगल की आग को बारिश व बर्फबारी ने काफी हद तक शांत कर दिया है। हालांकि, अभी प्रदेश के कुछ इलाकों में वन विभाग के साथ ही अन्य टीमें आग बुझाने में जुटी हुई हैं। बुधवार को मौसम में आए बदलाव के बीच आग बुझाने के लिए वायु सेना के चॉपर की मदद नहीं ली जा सकी। मौसम के बदले मिजाज से वन महकमे ने भी राहत की सांस ली है।

यह भी पढ़ें :  जंगलों में बढ़ रही आग, कोरोना मरीजों के लिए धुआं है खतरे की घंटी

पखवाड़ेभर से धधक रहे उत्तराखंड के जंगलों में लगी आग लगातार विकरात होती जा रही थी। पिछले सात दिन में ही आग की 557 घटनाओं में 814.72 हेक्टेयर वन क्षेत्र झुलस चुका है। वन विभाग के तमाम प्रयासों के बावजूद आग पर काबू नहीं पाया जा सका तो राज्य सरकार की गुहार पर केंद्र ने वायु सेना के चॉपर उपलब्ध कराए। तीन दिन से प्रदेश में वृहद स्तर पर आग बुझाने का कार्य किया जा रहा था, मगर कामयाबी कम ही मिल पा रही थी।

वहीं, मंगलवार रात और बुधवार को प्रदेशभर में हुई बारिश-बर्फबारी के बाद जंगलों में लगी आग काफी हद तक बुझ गई है। ग्रामीण क्षेत्रों में आबादी तक पहुंच चुकी आग पर भी काबू पा लिया गया है। मौसम के बदले मिजाज से उत्तरकाशी में गंगा घाटी और यमुना घाटी में 10 से अधिक स्थानों पर लगी आग पर काबू पा लिया गया है। उत्तरकाशी जनपद में 100 हेक्टेयर से अधिक जंगल जल चुका है।

पौड़ी में भी बारिश से जंगलों में लगी आग बुझ गई। यहां खिसरू में आग पर काबू पाने के लिए सेना की भी मदद ली जा रही है। टिहरी में भिलंगना, आरगढ़, गोनगढ़, सेंदुल, कोटीफैगुल, चंबा के खुरेत, काणाताल के अलावा कीर्तिनगर प्रखंड के जंगलों की आग भी बारिश से बुझ गई है।

12 घंटे में आग की 75 घटनाएं

बीते 12 घंटे में प्रदेश में आग की 75 घटनाएं जरूर सामने आई हैं, लेकिन मंगलवार की तुलना में बुधवार को प्रभावित क्षेत्र का दायरा कम रहा। इस दौरान वन आरक्षित क्षेत्र में 34 और वन पंचायतों में 41 घटनाएं सामने आईं। इनमें कुल 93.02 हेक्टेयर वन क्षेत्र प्रभावित हुआ। हालांकि, बारिश होने के चलते ज्यादातर क्षेत्रों में आग स्वत: बुझ गई।

यह भी पढ़ें :   Haridwar Kumbh Mela 2021: कुंभ में देव डोलियों के स्नान के दौरान होगी पुष्प वर्षा