उत्तराखंड: बिल जलाकर मांगी मुफ्त बिजली और पानी, कहा- केंद्र की सेवाओं में आरक्षण भी मिले

32

प्रदेश वासियों को वनाधिकार के तहत बिजली और पानी निश्शुल्क मुहैया कराने की मांग को लेकर वनाधिकार कांग्रेस मुखर हो गई है। जल संस्थान कार्यालय में बिजली और पानी के बिलों को जलाकर उन्होंने सरकार से शीघ्र कदम उठाने की मांग की। इस दौरान वनाधिकार कांग्रेस के प्रणेता किशोर उपाध्याय ने कहा कि वे अपने हक-हकूकधारी और अधिकारों के लिए जागें।

उत्तराखंड वनाधिकार कांग्रेस के आह्वान पर शुक्रवार को बड़ी संख्या में सदस्य दिलाराम चौक स्थित जल संस्थान के कार्यालय पहुंचे, जहां प्रदेशवासियों को निश्शुल्क बिजली-पानी देने की मांग को लेकर प्रदर्शन किया गया। इस दौरान वनाधिकार कांग्रेस के प्रणेता किशोर उपाध्याय ने कहा कि वे अपने हक-हकूकधारी और अधिकारों के लिए जागें। अपने बच्चों के उज्ज्वल भविष्य के लिए राज्य आंदोलन की तरह ही इस आंदोलन को भी समर्थन दें। उन्होंने कहा कि उत्तराखंडियों के साथ न्याय नहीं हुआ है। जिन मुद्दों को लेकर वनाधिकार काग्रेस आज संघर्ष कर रही है, वे सब उत्तराखंडियों को देश आजाद होने के साथ ही मिल जाने चाहिए थे।

यह भी पढ़े :    कोविड-19 के बढ़ते प्रकोप के दृष्टिगत वादकारियों को आयोग कार्यालय में उपस्थित पर लगी पाबंदी

उन्होंने मांग उठाई कि प्रदेशवासियों के पानी और बिजली के बिल सरकार वापस ले और राज्य के निवासियों को भविष्य में निश्शुल्क बिजली-पानी उपलब्ध कराया जाए। साथ ही, उन्होंने प्रदेशवासियों को केंद्र की सेवाओं में आरक्षण देने और निश्शुल्क घरेलू गैस मुहैया कराने की भी मांग की। कहा कि जड़ी-बूटियों पर स्थानीय समुदाय का अधिकार हो, शिक्षा और स्वास्थ्य सेवाएं निश्शुल्क हों, एक यूनिट आवास बनाने के लिए लकड़ी, बजरी व पत्थर निश्शुल्क दिया जाए, जंगली जानवरों से जन हानि पर 25 लाख रुपये क्षतिपूर्ति और परिवार के एक सदस्य को सरकारी नौकरी दी जाए। बताया कि हरिद्वार से इस पुण्य काम की शुरुआत हुई है और देहरादून महानगर वनाधिकार काग्रेस ने इस कार्यक्रम का आयोजन किया है।

कांग्रेस के बिजली-पानी के वादे पर आप का पलटवार

सत्ते में आने पर जनता को मुफ्त बिजली और पानी दिए जाने के कांग्रेस के वादे पर आम आदमी पार्टी (आप) ने पलटवार किया है। आप के प्रदेश प्रवक्ता रविंद्र आनंद ने कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत पहले पंजाब और राजस्थान में मुफ्त बिजली-पानी देने का वादा पूरा करे, इसके बाद उत्तराखंड की जनता को सपने दिखाए। शुक्रवार को प्रेस को जारी बयान में उन्होंने कहा कि कांग्रेस जनता से बिजली और पानी मुफ्त देने का वादा कर रही है। जब उन्हें जनता ने मौका दिया तो ये मुद्दे गायब थे।

राज्य में दस साल सत्ता में रहने वाली कांग्रेस ने तब जनता की सुध नहीं ली, लेकिन आज आप की योजनाओं को चुराकर उन पर काम करने का हवाला दे रही है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव और पंजाब के प्रभारी हरीश रावत जनता को 100 यूनिट बिजली और 25 लीटर पानी मुफ्त देने की बात कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि पंजाब और राजस्थान में उनकी सरकार है, इसलिए पहले वहां ये सभी चीजें मुफ्त करवाएं। उन्होंने कहा कि आप उत्तराखंड में दिल्ली मॉडल को लेकर कार्य करने जा रही है, इसलिए उनकी योजनाओं को कांग्रेस जनता के सामने परोस रही है। भाजपा और कांग्रेस की सरकार जिस भी प्रदेश में है, वहां उन्होंने बिजली और पानी के बिलों में छूट नहीं दी।