बनारस में निर्माणाधीन फ्लाईओवर गिरा, अब तक 25 की मौत, कई लोगों के दबे होने की आशंका

2856

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में मंगलवार शाम को बड़ा हादसा हुआ है। कैंट रेलवे स्टेशन के पास निर्माणाधीन पुल का एक बड़ा हिस्सा गिर गया। इसकी चपेट में कई वाहन आ गए। जिससे मौके पर चीख-पुकार और अफरा तफरी मच गई। हादसे में 20 से ज्यादा लोगों की मौत की खबर है। अभी 50 से ज्यादा लोगों के दबे होने की आशंका है। 18 शवों को निकाला जा चुका है।

शाम 05:30 के करीब हुई घटना के बाद राहत एवं बचाव कार्य खबर लिखे जाने तक जारी है। दो बोलेरो और एक मैजिक बाहर निकाल ली गई है अभी भी कई लोगों की व्यक्तियों के स्लैब के नीचे दबे होने की आशंका है। बीएचयू समेत अन्य सभी अस्पतालों को एलर्ट कर दिया गया है। सेना और एनडीआरएफ को मौके पर बुला लिया गया है। दुर्घटनास्थल पर भीड़ के चलते राहत कार्यों में परेशानी आ रही है। इस बीच पूरे शहर की यातायात व्यवस्था बुरी तरह प्रभावित हो गई है।

वाराणसी जिला प्रशासन और पुलिस विभाग के आला अधिकारी घटनास्थल पर पहुंच गए हैं। ये दुर्घटना वाराणसी कैंट रेलवे स्टेशन के पास जीटी रोड पर कमलापति त्रिपाठी इंटर कॉलेज के सामने घटित हुई है। घटनास्थल का नजारा बड़ा ही वीभत्स है। निर्माणाधीन पिलर के नीचे चार कारें, पांच ऑटो, एक सिटी बस और कई बाइक आईं हैं।

मरने वालों की संख्या और बढ़ सकती है। एक सिटी बस, पांच कार और एक दर्जन से अधिक दो पहिया वाहनों में सवार 40-50 व्यक्तियों के स्लैब के नीचे दबे होने की आशंका है। अब तक दो बोलेरो और एक मैजिक बाहर निकाल ली गई है।

भारी-भरकम स्लैब के नीचे से इक्का-दुक्का लोगों को ही निकाला जा सका है। दो लोगों को कबीरचौरा अस्पताल में इलाज के लिए भेजा गया है। बीएचयू समेत अन्य सभी अस्पतालों को एलर्ट कर दिया गया है।

सेना और एनडीआरएफ को मौके पर बुला लिया गया है। दुर्घटनास्थल पर भीड़ के चलते राहत कार्यों में परेशानी आ रही है। इस बीच पूरे शहर की यातायात व्यवस्था बुरी तरह प्रभावित हो गई है।

हादसे में घायलों की अधिक संख्या को देखते हुए अस्पतालों को अलर्ट पर रखा गया है। कबीरचौरा अस्पताल में डॉक्टरों और कंपाउंडरों की इमरजेंसी टीम तैनात किया गया है। इसके अलावा अस्पतालों में इमरजेंसी के मद्देनजर अतिरिक्ति ओटी की व्यवस्था की गई है। हादसे के कारण उधर जाने वाले वाहनों का रूट डायवर्ट किया गया है।

यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने वाराणसी के कैंट एरिया में हुए दर्दनाक हादसे पर गहरा दुख व्यक्त किया है और मदद के लिए दो मंत्रियों को रवाना किया है। घटनास्थल पर बचाव कार्य जारी है मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य व मंत्री नीलकंठ तिवारी को मदद के लिए भेजा है।

वाराणसी में एक निर्माणाधीन फ्लाईओवर के गिरने से हुए दर्दनाक हादसे पर पीएम मोदी ने दुख जताया है। उन्होंने लिखा कि मैं प्रार्थना करता हूं कि घायल जल्द ही ठीक हो जाएं। साथ ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अधिकारियों से बात की और मदद करने के निर्देश दिए हैं।

वाराणसी के कैंट रेलवे स्टेशन के पास मंगलवार शाम हुए इस हादसे के बाद शहर के सभी अस्पतालों को अलर्ट मोड पर रखा गया है। जिला प्रशासन के सभी अधिकारी मौके पर पहुंचे और राहत एवं बचाव का कार्य का जायजा लेते रहे।

शहर के सबसे व्यस्त मार्गों में से एक लहरतारा-कैंट मार्ग पर हादसा होने के बाद स्टेशन की ओर आने वाली सभी सड़के जाम हो गई। मौके पर आठ क्रेन मंगाया गया। मलबे में दबे लोगों को निकालने में रेलवे कॉलोनी के लोग जुटे रहे।

इधर, घायलों को अस्पताल पहुंचाने के लिए शहर से सभी एंबुलेंस को मौके पर बुलाया गया। कई शवों के चिथड़े उड़ गए थे। सड़कें जाम होने के कारण घायलों को अस्पताल पहुंचाने में भी मशक्कत करनी पड़ी। अभी बी कई वाहन मलबे में फंसे है। उन्हें निकालने का प्रयास जारी है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दिल्ली में बीजेपी के ऑफिस में बीजेपी के कार्यकर्ताओं को संबोधित किया। इस दौरान पीएम मोदी ने कहा कि अभी कुछ समय पहले वाराणसी में दर्दनाक हादसा हो गया। मैंने सीएम योगी आदित्यनाथ से बात की है। साथ ही अधिकारियों से बात कर उन्हें राहत एवं बचाव कार्य में तेजी लाने के निर्देश दिए हैं।