जिस स्टिंग की बात की गई है वो मैंने ही किया था। – उमेश शर्मा

522

उमेश शर्मा ने 10 अगस्त को देहरादून और 19 नवंबर को रांची (झारखंड) में दर्ज राजद्रोह के मुकदमे को निराधार बताया। उन्होंने आरोप लगाया कि झारखंड में मुकदमा दर्ज कराने वाले अमृतेश चौहान उत्तराखंड के मुख्यमंत्री से मिलते जुलते हैं। अमृतेश ने नोटबंदी के दौरान सीएम के रिश्तेदारों के खातों में 25 लाख रुपये जमा कराए थे। यह स्टिंग भी आयुष गौड़ ने ही किया था। उन्होंने स्टिंग का कुछ हिस्सा स्क्रीन पर भी दिखाया।

यह भी पढ़ें : इस फल के पत्तों का रस या काढ़ा डेंगू के मरीजों के लिए है वरदान ,शोध में हुआ साबित

जिस स्टिंग की बात की गई है वो मैंने ही किया था। सीएम के परिवार को फंसाने के लिए मुझे कहा था कि किसी तरह पैसे देकर स्टिंग कर लूं। अगर पैसे न दे सकूं तो किसी तरह से उनसे काम किए जाने का आश्वासन ले लूं, ताकि इन स्टिंग को बाद में पैसा बनाया जा सके। मुझ पर काफी दबाव भी डाला गया।

यह भी पढ़ें : भारी बर्फबारी को देख भयभीत हुए साधु के लिए बुलानी पड़ी एसडीआरएफ की फोर्स

आयुष गौड, चैनल के पूर्व इनवेस्टिगेटिव एडिटर
मुझे पता चला है कि मेरे नाम का इस्तेमाल कर एक ऑडियो प्रेस क्लब दिल्ली में सुनाया है। इसमें काफी छेड़खानी की गई है। ये भी प्रचारित किया है कि मैंने सीएम उत्तराखंड को पैसा दिया है, यह झूठा आरोप है।
अमृतेश चौहान, झारखंड निवासी