पालिका ने की भवन कर बढ़ाने की कवायद तेज

25

नगर पालिका परिषद ने भवन कर को बढ़ाने की कवायद तेज कर दी है। इसके लिए नगर क्षेत्र में स्थित मकानों का सर्वे कार्य किया जा रहा है। सर्वे कार्य पूरा होते ही नगर पालिका भवन कर को बीस प्रतिशत तक बढ़ाएगी।

विदित हो कि प्रत्येक पांच वर्षो में नगर पालिका की ओर से नगर में बने भवनों का सर्वे किया जाता है। इसके आधार पर हर वर्ष पच्चीस प्रतिशत तक भवन कर में वृद्धि की जाती है, लेकिन इस वर्ष पालिका बोर्ड में बीस प्रतिशत तक वृद्धि करना तय किया है। पंचवर्षीय भवन कर के लिए नगर पालिका को मकानों का सर्वे कार्य वर्ष 2017 में करना था, लेकिन इस वर्ष विधानसभा चुनाव होने के कारण पालिका का सर्वे कार्य नहीं हुआ। विधान सभा चुनाव के बाद नगर पालिका के चुनाव होने के कारण 2018 में भी नगर पालिका इस सर्वे कार्य को नहीं करा पाई।

यह भी पढ़ें :     राहुल को अभी पुराने दिग्गजों में ही तलाशना होगा नया संकटमोचक, जानें कांग्रेस में कौन है  

पालिका की नई कार्यकारिणी गठित होने के बाद वर्ष 2019 के अक्टूबर माह में पालिका क्षेत्र में स्थित मकानों का सर्वे कार्य शुरु करवाया। लगभग आठ हजार मकानों का सर्वे कार्य ही हो पाया था कि कोरोना संक्रमण के कारण हुए लाकडाउन से 22 मार्च को एक बार फिर सर्वे कार्य रोकना पड़ा। वर्ष 2020 के जून माह में अनलाक के बाद इस कार्य को फिर शुरू किया गया। इसके बाद पांच माह में अभी तक यह सर्वे 75 फीसद ही हो पाया है। मूल्यांकन कार्य पूरा होने के बाद तय है कि नगर क्षेत्र के भवनों का भवन कर में वृद्धि होगी। वहीं नए बने भवनों का भवन कर निर्धारित होगा।

भवन कर वृद्धि में सहमति व आपत्ति मांगी

पालिका क्षेत्र के भवन स्वामियों को पालिका की ओर से पत्र भेज कर उन्हें भवन कर में वृद्धि के बारे में सूचना दी जा रही है, जिसके बाद भवन स्वामी पालिका में जाकर अपनी सहमति या आपत्ति दर्ज करा सकते हैं।

प्रत्येक पांच वर्षो में भवन कर के लिए नगर क्षेत्र के भवनों का सर्वे किया जाता है। वर्ष 2017 को सर्वे होना था लेकिन नहीं हो पाया अब इसका सर्वे कार्य 75 प्रतिशत तक पूरा हो गया है। इस बार बोर्ड ने बीस प्रतिशत तक भवन कर वृद्धि करने की बात कही है।

-प्रकाश चंद्र जोशी, अध्यक्ष नगर पालिका अल्मोड़ा