गौरीकुंड से केदारनाथ के लिए बने एकल मार्ग

16

विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल ने ऋषिकेश विधानसभा क्षेत्र से जुड़े विभिन्न विषयों को लेकर मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत से उनके शासकीय आवास पर भेंट की। विधानसभा अध्यक्ष ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पारिवारिक गुरु स्वामी अभिराम दास के सुझाव व शहीदों के स्वजनों की मांग पर पांच बीघा भूखंड आवंटित किए जाने संबंधित पत्र मुख्यमंत्री को सौंपा।

कुछ दिन पूर्व विधानसभा अध्यक्ष ने हनुमान गुफा के संस्थापक व प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पारिवारिक गुरु स्वामी अभिराम दास ने गौरीकुंड से केदारनाथ यात्रा के लिए सड़क मार्ग बनाने संबंधी सुझाव के लिए विधानसभा अध्यक्ष को ज्ञापन सौंपा था। उन्होंने अवगत कराया था कि गौरीकुंड से गरुड़ चट्टी, हनुमान गुफा होते हुए केदारनाथ के लिए एकल मार्ग का निर्माण किया जाए। इसी तरह से केदारनाथ से गौरीकुंड जाने वालों के लिए दूसरा मार्ग केदारनाथ से हथिनी पर्वत के नीचे से बाजार पूछड़ा जाला चौमासी होते हुए गौरीकुंड पहुंचेगा। यह मार्ग भी एकल मार्ग होगा। इन दोनों मोटर मार्गो के निर्माण से जहां पर्यावरण संरक्षण होगा, वहीं दोनों घाटियों का विकास भी होगा।

यह भी पढ़े :   स्वेच्छा से अतिक्रमण हटा रहे हैं व्यापारी, बंद हो तोड़फोड़

विधानसभा अध्यक्ष ने मुख्यमंत्री को अवगत किया कि विगत दिनों ऋषिकेश के शहीदों के स्वजनों ने उनसे मुलाकात कर शहीदों के स्वजनों के लिए पांच बीघा भूखंड आवंटित करने को ज्ञापन सौंपा था। उन्होंने कहा कि शहीदों के स्वजनों का कहना है कि अन्य राज्यों में शहीदों के परिवारों को भूखंड उपलब्ध कराए जा रहे हैं, इसी तर्ज पर उत्तराखंड में भी शहीदों के स्वजनों को भूखंड उपलब्ध कराए जाएं। विधानसभा अध्यक्ष ने मुख्यमंत्री से दोनों ही विषयों पर विचार कर कार्रवाई का आग्रह किया।

100 जरूरतमंदों को बांटे राशन किट

विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल ने खैरीकलां ग्राम सभा में 100 जरूरतमंदों को राशन सामग्री के किट वितरित किए। विधानसभा अध्यक्ष ने कहा कि कोरोना का खतरा अभी कहीं भी टला नहीं है फिर भी लोग कोरोना संक्रमण से बचने के लिए दिए गए दिशा-निर्देशों का पालन करने में लापरवाही बरत रहे हैं। उन्होंने कोरोना वायरस की महामारी के संकट से सभी से एकजुट होकर दुनिया के सामने मानवता की रक्षा की एक अनूठी मिसाल कायम करने की अपील की। इस मौके पर खैरीकला के ग्राम प्रधान चमन पोखरियाल, मंडल मंत्री विजेंद्र राणा, जसविदर राणा, मंगल रावत, बलवीर सिंह राणा, रणवीर सिंह राणा, कमलेश राणा, प्रमिला राणा, जगदंबा राणा आदि उपस्थित थे।