ढकरानी में बाइक की किश्त के नाम पर ठगे सात हजार रुपये

21

कोतवाली अंतर्गत ढकरानी में एक व्यक्ति से लोन पर ली गई बाइक की किश्त के रूप में सात हजार रुपये ठग कर आरोपित फरार हो गया। पीड़ि‍त पक्ष की ओर से विकासनगर कोतवाली में तहरीर दी गई है। पुलिस मामले की जांच कर रही है।

ढकरानी निवासी राशिद पुत्र नूर मोहम्मद ने कोतवाली में दी तहरीर में कहा कि उसने बाइक का लोन एक फाइनेंस कंपनी से लिया था। जिसकी प्रति माह की किश्त 3500 रुपये थी, जो कोरोना महामारी के चलते वह जाम नहीं कर पाया। इस बीच कंपनी से फोन आया कि दो किश्तें तुरंत जमा कराना अनिवार्य है। उसके बाद विशु नामक व्यक्ति का फोन आया कि वह कंपनी की तरफ से बकाया किश्त लेने के लिए आ रहा है। आरोप है कि विशु नौ अक्टूबर को दोनों किश्तों की एवज में सात हजार रुपये लेकर चला गया।

यह भी पढ़े :  कुमाऊं के आशीष और अनिरुद्ध ने नीट में पाई सफलता, देशभर में 163वीं रैंक हासिल की

दो किश्त के रुपये देने के बाद भी 14 अक्टूबर को कंपनी से सचिन नामक कर्मी का पुन: फोन आया कि उसकी बाइक की अभी तक दोनों किश्तें जमा नहीं हुई है। जब राशिद ने कहा कि उसने दोनों किश्तें कंपनी के कर्मी विशु को दे दी है तो कंपनी कर्मी ने बताया कि विशु नाम का कोई व्यक्ति कंपनी में कर्मचारी नहीं है।

जिसे सुनकर राशिद को खुद के साथ ठगी की जानकारी हुई। तहरीर में राशिद ने इस पर आशंका व्यक्त की है कि यदि विशु कंपनी का आदमी नहीं था तो उसे उसके लोन की किश्त की जानकारी उसे कैसे हुई। उधर कोतवाली के एसएसआई रामनरेश शर्मा के अनुसार मामले की जांच की जा रही है।

अवैध खनन की चोरी में दो डंपर ड्राइवर गिरफ्तार

कोतवाली पुलिस ने शुक्रवार को अवैध खनन रोकने के लिए यमुना के नावघाट पर छापेमार कार्रवाई की। इस दौरान पुलिस ने दो डंपरों को एमवी एक्ट में सीज किया, साथ ही अवैध खनन करने पर दो वाहन चालकों को गिरफ्तार किया। जिनके खिलाफ उपखनिज चोरी की धारा में कार्रवाई की। शुक्रवार को कोतवाल राजीव रौथाण ने अवैध खनन करने वाले व्यक्तियों के विरुद्ध प्रभावी कार्रवाई करने के लिए अलग-अलग टीमें गठित कर क्षेत्र में रवाना की।

दारोगा रतन सिंह बिष्ट के नेतृत्व में गठित पुलिस टीम ने सुबह नाव घाट यमुना में अवैध खनन कर रहे दो डंपर चालक जिसान व फुरकान को नदी से अवैध खनन चोरी करने के जुर्म में गिरफ्तार किया। डंपरों में अवैध खनन सामग्री रेत भरा पाए जाने पर दोनों वाहनों को सीज किया गया। आरोपित वाहन चालकों के खिलाफ खनन अधिनियम व चोरी की धारा में मुकदमा दर्ज किया गया।

यह भी पढ़े :    Coronavirus Outbreak: अब ऑनलाइन जानिए कोरोना जांच का परिणाम, सरकार ने की ये नई पहल