यह है जलवीर, गंगनहर में डूबने वालों का आसरा, बचा चुका है 187 लोगों की जान

1986

रुड़की में गंगनहर के आधा दर्जन से अधिक घाट डेथ प्वाइंट साबित हो रहे है। एक माह के भीतर 47 लोग इन घाटों पर नहर में डूब चुके हैं और जल पुलिस की भूमिका सिर्फ तमाशाई की रह गई है।

ऐसे में स्थानीय तैराकों का जलवीर के रूप में सामने आना निश्चित रूप से उम्मीद जगाने वाला है। खासकर जलवीर मोनू तो बीते आठ साल में 187 डूबतों की जान बचा चुका है।

जीवनदायिनी गंगनहर तेजी से लोगों की मौत का कारण बनती जा रही है। नहर के खतरनाक हो चुके प्वाइंट पर हर दिन लोग डूब रहे हैं। बावजूद इसके जल पुलिस की तैनाती को लेकर अधिकारी जरा भी गंभीर नजर नहीं आ रहे।

यह भी पढ़ें- प्रसव के दौरान आधा बच्चा अंदर था आधा बाहर, डाक्टर ने कर दिया रेफ़र.. महिला की मौत

यही वजह है कि जून में ही 16 लोग रुड़की तो 31 लोग कलियर में गंगनहर की भेंट चढ़ चुके हैं। इनमें कोई नहाते हुए गंगनहर में डूबा तो कोई पांव फिसलने से। डूबतों को बचाने के लिए जल पुलिस की गंभीरता का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि जब तक वह मौके पर पहुंचती है, तब तक बहुत देर हो चुकी होती है।

ऐसे में स्थानीय गोताखोर डूबतों की जान बचाकर जिम्मेदारों को आईना दिखा रहे हैं। इन्हीं में एक है रुड़की निवासी मोनू, जो अब तक 187 लोगों की जान बचा चुका है।

यह भी पढ़ें- तीन किलो सोने के साथ तीन भारतीय व दो नेपाली तस्कर दबोचे, 48 घंटे में पकड़ा 9 किलो सोना

पुलिस भी लेती है मोनू की मदद
30-वर्षीय मोनू जल पुलिस चौकी के ठीक सामने ठीया चाय बेचने का काम करता है। दिन-रात वह इस ठीये पर ही रहता है और पिछले आठ साल से गंगनहर में डूबने वालों की जान बचा रहा है।

मोनू को जब भी किसी के डूबने की सूचना मिलती है, तुरंत निकल पड़ता है उसकी जान बचाने। मोनू की मानें तो लोगों की जान बचाने पर उसके दिल को असीम सुकून मिलता है। कई बार तो दोनों थानों की पुलिस भी मोनू की मदद लेती है।

यह भी पढ़ें- बच्चों से करवाता था अश्लील काम, बनाता था वीडियो, आठ बच्चे बन चुके हैं शिकार

तीन जवानों के भरोसे डूबतों की जिंदगी
रुड़की जल पुलिस में मात्र तीन जवान तैनात है। उस पर जल पुलिस की मोटर बोट भी कुछ माह से खराब पड़ी है। ऐसे में इन तीन जवानों का भी होना-न होना बराबर है।

इन प्वाइंट पर हो रहे सबसे अधिक हादसे
नगर निगम पुल घाट, सोलानी पार्क के पास, लक्ष्मी-नारायण मंदिर घाट, कलियर पुल के पास वाला घाट, मेहवड़ पुल के पास वाला घाट, आसफनगर झाल के पास, गणेशपुर पुल के पास, रोशनी वाले पुल के पास।

यह भी पढ़ें- हैंडपंप के लिए खोदे जा रहे गड्ढे से हुआ जहरीली गैस का रिसाव, एक मजदूर की मौत, दो बेहोश

हादसों की वजह

  • संवदेनशील प्वाइंट पर नहीं पुलिस तैनात
  • कई घाटों पर नहीं लगी हैं लोहे की जंजीर
  • खतरनाक हो रहे घाटों पर हैं नहीं चेतावनी बोर्ड
  • तेज बहाव वाले स्थानों पर नहाने से हादसे
यह भी पढ़ें- आखिर वो किसका स्वार्थ है, जो उत्तराखंड सरकार को ट्रान्सफर एक्ट पर एक्ट करने से रोक रहा है ?

शीघ्र ही जल पुलिस में जवानों की संख्या बढ़ाई जाएगी
कृष्ण कुमार वीके (एसएसपी, हरिद्वार) का कहना है कि शीघ्र ही जल पुलिस में जवानों की संख्या बढ़ाई जाएगी। इसके अलावा जिन प्वाइंट पर गंगनहर में डूबने से हादसे हो रहे हैं, उन्हें चिह्नित कर वहां सुरक्षा के इंतजाम किए जाएंगे। इसके लिए शीघ्र ही रुड़की में पुलिस अधिकारियों के साथ बैठक कर जरूरी निर्देश दिए जाएंगे।