दिल्ली, देहरादून में धमाल मचाएंगी बागेश्वर में रिगाल से बनी राखियां

355

दानपुर क्षेत्र के शामा में बन रही रिगाल की हस्तनिíमत राखियां दिल्ली, देहरादनू, जयपुर आदि जगहों पर धमाल मचाने जा रही है। हस्तनिíमत राखी के माध्यम से महिलाएं लोगों को लोकल फॉर वोकल का संदेश दे रही हैं।

इस बार चीन के साथ तनातनी का असर भारतीय बाजार पर साफ दिखाई दे रहा है। चीनी राखियों से इस समय तक जो बाजार पटे रहते थे। वहां अब एक भी सामान चीन का नहीं है। बाजार को देखते हुए इस बार स्वयं सहायता समूहों ने आगे आकर पहल की। कपकोट ब्लाक के शामा क्षेत्र की महिलाओं ने रिगाल से बने हस्तनिíमत राखियां बनानी शुरू कीं।

यह भी पढ़े :   Uttarakhand Weather Today : भारी बारिश की चेतावनी, यमुनोत्री हाईवे दूसरे दिन भी बंद

यह राखियां बाजार में आते ही व्यापारियों ने इसे हाथों-हाथ लिया। हस्तनिíमत राखी अब आजीविका को मजबूत कर रही हैं। कपकोट गांव में चार महिलाएं वेस्ट मैटेरियल से राखी बना रही हैं। स्वरोजगार के साथ आत्मनिर्भर भारत का संदेश दे रही हैं।

शामा की दीपाली ठाकुर, यमुना कोरंगा, खष्ठी देवी, दीक्षा केसरवानी, नेहा मेहता, पूजा बिष्ट अब तक करीब 500 से अधिक राखियां बना चुकी हैं। रिगाल से बनी राखी की कीमत 30 रुपये और वेस्ट मैटेरियल से बनी राखी की कीमत 15 रुपये है। राखी को रिगाल और धागे की मदद से बनाया गया।

राखी को बागेश्वर, हल्द्वानी, रुद्रपुर, हरिद्वार, देहरादून, दिल्ली और जयपुर आदि स्थानों पर भेजा। आयुíवजन ग्रुप महिलाओं को हस्त निíमत राखी बनाने के लिए प्रोत्साहित कर रहा है। शामा और कपकोट गांव में महिलाएं पांच दिनों से हस्तनिíमत राखी बना रही हैं। हल्द्वानी में लगेगा स्टाल

बागेश्वर: आयुíवजन ग्रुप के संस्थापक भूपेंद्र कोरंगा ने बताया कि ग्रुप के माध्यम से हस्तनिíमत राखी के सबसे अधिक ऑर्डर हल्द्वानी से आ रहे हैं। राखी लोगों तक पहुंचाने के लिए बागेश्वर और हल्द्वानी में स्टाल लगाया जाएगा। कोरोना महामारी के कारण कई जगहों से होम डिलीवरी की भी डिमांड आ रही है।

यह भी पढ़े :  हांगकांग में लोकतंत्र समर्थकों के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट से नाराज हुआ US, सख्‍त चेतावनी जारी की