झझरगाड में यमुनोत्री हाईवे से गुजरना जोखिमभरा, आने लगी हैं राजमार्ग में दरारें

354

यात्राकाल शुरू होने में महज दो माह शेष है। लेकिन लगातार यमुना नदी के कटाव और सड़क पर बर्फ के पानी से यमुनोत्री राजमार्ग पर झझर गाड के पास राजमार्ग में दरारें आने लगी हैं। दरारें इतनी बढ़ गई हैं कि वाहनों का हाईवे से गुजरना जोखिमभरा हो रहा है।

यह भी पढ़िए: भारी बर्फबारी के बाद पानी की आपूर्ति ठप , पाइपों में जमी बर्फ पिघलाकर ही किसी तरह पीने का पानी प्राप्त

ग्रामीणों ने सरकार से हाईवे को जल्द से जल्द दुरुस्त करने की मांग की है। पिछले कई दिनों से लगातार बर्फबारी से जहां आम जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है। वहीं बर्फबारी से बढ़ती कड़ाके की ठंड और गिरते तापमान सहित यमुनोत्री राजमार्ग के झझर गाड के पास सड़क में दरार आने लगी है। हालांकि एनएच विभाग इसका कारण यमुना नदी से होने वाले कटाव को मान रहा है। लेकिन, यमुना नदी में इन दिनों जलप्रवाह बहुत कम है। ऐसे में सड़क में दरार की वजह तापमान में गिरावट और निर्माण में निम्न गुणवत्ता को माना जा रहा है। यात्रा सीजन शुरू होने में महज दो माह शेष है। ऐसे में राजमार्ग के खस्ताहाल होने से यात्रा पर संकट मंडराने लगा है।

स्थानीय निवासी महावीर पंवार माही, सुबोध, रामलाल ने विभाग पर आरोप लगाया कि जहां एक ओर ओजरी का डाबरकोट यात्रा के लिए नासूर बना हुआ है। वहीं राणाचट्टी के झझरगाड के पास सड़क में दरार का विभाग संज्ञान लेने को तैयार नहीं है। वहीं इसे लेकर अधिशासी अभियंता नवनीत पांडे ने बताया कि झझर गाड के पास हाईवे पर जो दरार पड़ी है, उस संबंध में उच्चाधिकारियों को सूचित करा दिया गया है।

यह भी पढ़िए: उत्तराखंड: आर्थिक रूप से कमजोर लोगों को नौकरियों में 10 प्रतिशत आरक्षण , विधेयक को मंजूरी