Power Engineers Association: पावर इंजीनियर्स एसोसिएशन ने फील्ड स्टाफ की कमी का मुद्दा उठाया

120

ऊर्जा निगम के कर्मचारी संगठनों ने शुक्रवार को उत्तराखंड पावर कारपोरेशन लिमिटेड के प्रबंध निदेशक डॉ. नीरज खैरवाल से मुलाकात की। संगठनों ने फील्ड स्टाफ की कमी, वेतन विसंगतियों, विभागीय ढांचे के पुनर्गठन समेत कार्मिक से जुड़ी लंबित समस्याओं से उन्हें अवगत कराया। उन्होंने कहा कि संगठन राजस्व वसूली से लेकर लाइन लॉस को कम करने के अभियान में पूरा सहयोग करेंगे।

उत्तरांचल पावर इंजीनियर्स एसोसिएशन के महासचिव इ. मुकेश कुमार ने बताया कि अवर अभियंताओं की कमी से विद्युत व्यवस्था सुचारू रखने, उपभोक्ताओं से जुड़ी समस्याओं के निराकरण में दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। उधर, एमडी ने भी मेहनत और पारदर्शिता के साथ काम करने के लिए प्रेरित किया।

यह भी पढ़े :   राम मंदिर निर्माण के स्वागत पर कमल नाथ और दिग्विजय की सोनिया गांधी से शिकायत

उधर, उत्तराखंड ऊर्जा कामगार संगठन के प्रांतीय अध्यक्ष राकेश शर्मा ने बताया कि एमडी के समक्ष 9, 14 व 19 वर्ष की सेवा पूर्ण करने पर मिलने वाले एसीपी, सातवें वेतनमान से उत्पन्न हुई विसंगतियों, तकनीकी ग्रेड-टू से अवर अभियंता के पदों पर पदोन्नति आदि मुद्दे रखे गए।

इन मुद्दों के समाधान के संबंध में एमडी की ओर से सुझाव भी मांगे गए हैं। उत्तराखंड विद्युत संविदा कर्मचारी संगठन (इंटक) के प्रतिनिधि मंडल ने एमडी डॉ. नीरज खैरवाल को निगम में कार्यरत संविदा कार्मिकों की समस्याओं व मांगों से अवगत कराया। इसमें मानदेय बढ़ोत्तरी, महंगाई भत्ता आदि पर सकारात्मक कदम उठाने की मांग की। संगठन के प्रतिनिधि मंडल में प्रदेश अध्यक्ष विनोद कवि, मुख्यालय अध्यक्ष अनिल नौटियाल, घनश्याम शर्मा, शीला बोरा शामिल रहे।