वन दारोगा पर सौ फीसद प्रमोशन की मांग

105

वन आरक्षी/वन बीट अधिकारी संघ राजाजी टाइगर रिजर्व ने दो सूत्रीय मांगों के लिए बैठक के बाद प्रदर्शन किया। कहा कि मांगों की बाबत एक प्रतिनिधिमंडल पार्क निदेशक से मिलेगा। इसके बाद भी अगर मांगें पूरी नहीं की गई तो बड़ा आंदोलन किया जाएगा।

रविवार को ललतारौ पुल के पास वन कुटीर में हुई बैठक में संघ के अध्यक्ष काक्का ने कहा कि वन आरक्षियों को नौ माह का टाइगर प्रोजेक्ट भत्ता नहीं दिया गया है। भत्ता देने के नाम पर केवल उन्हें झूठे आश्वासन दिए जा रहे हैं। सचिव फरमान अली ने कहा कि पूर्व की सरकार में वन आरक्षियों के सौ फीसद प्रमोशन कर वन दारोगा बनाया जाता था।

यह भी पढ़े :   पत्नी को दिया तीन तलाक, विरोध करने पर की पिटाई

लेकिन, वर्तमान सरकार ने नियमावली बनाकर 33.33 प्रतिशत वन दारोगा के पदों पर सीधी भर्ती करने के लिए प्रक्रिया शुरू कर दी है। कहा कि सरकार पहले नियमावली बनने से पूर्व के भर्ती हुए वन आरक्षी का प्रमोशन करे। इसके बाद ही सीधी भर्ती शुरू की जाए।

कहा कि वन आरक्षी की कमी होने से एक-एक के पास कई-कई बीटों का चार्ज है, जिससे अधिक कार्य रहने से वन आरक्षी तनाव में चल रहे हैं। इसके चलते ही वन दारोगा सतीशचंद्र की छिड़क चौकी पर हार्ट अटैक से मौत हो गई थी। मानसिक तनाव कम करने के लिए आरक्षियों की संख्या बढ़ाई जाए। इस मौके पर कोषाध्यक्ष सायर हुसैन, प्रचार मंत्री अर्जुन सिंह नेगी, मणिराम, मोहन सिंह आदि मौजूद रहे।

यह भी पढ़े :  ज्वैलर्स पंकज खंडेलवाल हत्याकांड मामले में अंडरवर्ल्ड सरगना पीपी व भुप्पी दोषमुक्त