मां के शव के साथ चार दिन तक घर में रहा दिव्यांग बेटा…

1794

रुड़की में एक मानसिक रूप से दिव्यांग लड़का कहता रहा कि उसकी मां कुछ दिन से न बोल रही है और न ही कुछ खा रही है, लेकिन लोगों ने उसकी बात का यकीन नहीं किया। कोई उसकी मदद को नहीं आया, सब उससे बचते रहे। आखिर बुधवार जब उसने जिद पकड़ ली तो कुछ लोग अंदर झांकने गए तो उनके होश उड़ गए।

अंदर बुजुर्ग महिला का शव पड़ा हुआ। सूचना पर पहुंची पुलिस ने शव कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। बताया जा रहा है कि महिला चार दिन पहले मर गयी थी। तब से दिव्यांग बेटा अपनी मां के शव के साथ रह रहा था।

अंबर तालाब में वृद्धा का शव चार दिन तक घर में पड़ा रहा। वृद्धा के साथ उसका मानसिक रूप से दिव्यांग बेटा भी रहता था। वह लोगों को कह रहा था कि उसकी मां बात नहीं कर रही है और कुछ खा नहीं रही। पहले लोगों को उसकी बातों पर यकीन नहीं हुआ। बाद में जब लोग घर पहुंचे तो मामले का पता चला।

यमुनोत्री जा रहे यात्रियों से भरी बस पलटी, नौ लोग घायल

गंगनहर कोतवाली के अंबर तालाब में जटियों वाले मोहल्ले में सरोज (85) अपने दो बेटों के साथ रहती थी। बड़ा बेटा 60 वर्षीय लाजपत राय मिस्त्री का काम करता है, जबकि 48 वर्षीय दूसरा बेटा देवेंद्र शर्मा उर्फ पिंटू मानसिक रूप से कमजोर है और बीमार रहता है।

बताया गया है कि करीब चार दिन पहले लाजपत राय काम से दिल्ली गया था। पिछले दो-तीन से मानसिक रूप से कमजोर पिंटू तीन-चार दिनों से लोगों को कह रहा था कि उसकी मां उठ नहीं रही है। वह कुछ खा भी नहीं रही है और बात भी नहीं कर रही है ।

मौसम ने ली करवट : बारिश-ओलावृष्टि, कहीं राहत कहीं आफ़त, एक की मौत

पहले लोगों को उसकी बात पर यकीन नहीं हुआ। बुधवार को उसने कुछ लोगों से घर चलने की जिद की। इसके बाद कुछ लोग घर पहुंचे तो अंदर वृद्धा का शव पड़ा हुआ था। दिव्यांग पुत्र चार दिन तक मृत मां के साथ घर में ही रहा।

पौड़ी में नाबालिग से दुराचार के दोषी आजीवन कारावास, बीस हजार रूपये जुर्माना

मामले की सूचना गंगनहर पुलिस को दी गई। इंस्पेक्टर गंगनहर कमल कुमार लुंठी ने बताया कि महिला कुछ समय से बीमार चल रही थी। उसका एक और पुत्र भी है। शव करीब चार दिन पुराना है।

जंगल की आग से गिरे पेड़ से झुलसने से 3 बच्चों की मौत, एक गंभीर घायल, 4 लाख मुआवजा, विभाग ने पल्ला झाड़ा

बताया कि शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है। आसपास के लोगों ने बताया कि महिला का पति बिजली मिस्त्री था और कुछ साल पहले उसकी मौत हो गई थी। इंस्पेक्टर ने बताया कि महिला के दूसरे पुत्र के आने का इंतजार किया जा रहा है।