स्वेच्छा से अतिक्रमण हटा रहे हैं व्यापारी, बंद हो तोड़फोड़

16

दून उद्योग व्यापार मंडल ने प्रशासन से अतिक्रमण के खिलाफ अभियान रोकने की मांग की है। इस संबंध में व्यापार मंडल का एक प्रतिनिधमंडल गुरुवार को जिलाधिकारी डॉ. आशीष श्रीवास्तव से मिला। प्रतिनिधमंडल ने जिलाधिकारी से कहा कि जब व्यापारी खुद अतिक्रमण तोड़ रहे हैं तो प्रशासन जेसीबी से तोड़फोड़ क्यों कर रहा है। इससे व्यापारिक प्रतिष्ठानों को नुकसान हो रहा है। साथ ही बाजारों में अफरा-तफरी का माहौल है।

दून उद्योग व्यापार मंडल के कार्यकारी अध्यक्ष सिद्धार्थ उमेश अग्रवाल ने जिलाधिकारी से कहा कि व्यापार मंडल और प्रशासन एक-दूसरे के पूरक हैं। इसलिए अतिक्रमण हटाने के नाम पर व्यापारियों को बेवजह परेशान न किया जाए। लॉकडाउन के कारण व्यापारी पहले ही आर्थिक घाटे से परेशान हैं। अब प्रशासन त्योहारी सीजन में अतिक्रमण हटाओ अभियान चला रहा है। इससे व्यापार पूरी तरह चौपट हो गया है।

यह भी पढ़े :   पोखरा काठमांडू और विराटनगर तक पहुंची रेल भारत-नेपाल संबंधों के लिए मील का पत्थर साबित होगी

मंडल के महामंत्री सुनील मैसोन ने कहा कि पलटन बाजार के लगभग सभी दुकानदारों ने खुद ही अपनी दुकान के छज्जे को ध्वस्त कर दिया है। ऐसे में प्रशासन का जेसीबी से तोड़फोड़ करना उचित नहीं है। इसे रोका जाए। वरिष्ठ उपाध्यक्ष डीडी अरोड़ा ने बताया के राजेंद्र नगर के अतिक्रमण को वहां के दुकानदार खुद तोड़ रहे हैं। जिलाधिकारी से मुलाकात करने वालों में व्यापार मंडल के संगठन मंत्री दीपक गुप्ता, पलटन बाजार से विजय कोहली, प्रतीक मैनी और बंजारावाला व्यापार मंडल से राजेश बडोनी शामिल रहे। ध्वस्तीकरण का किया विरोध

दून उद्योग व्यापार मंडल के कार्यकारी अध्यक्ष सिद्धार्थ उमेश अग्रवाल के नेतृत्व में व्यापारियों ने गुरुवार को पूरा दिन राजेंद्र नगर और कौलागढ़ रोड पर अतिक्रमण ध्वस्तीकरण का विरोध किया। इसके बाद पलटन बाजार में भी तोड़फोड़ का विरोध किया गया। इस दौरान व्यापारियों की कई बार अधिकारियों से नोकझोंक भी हुई।