बलियानाला क्षेत्र में भूस्खलन का खतरा बढ़ा, लोग घर छोड़कर जाने को तैयार नहीं

706

बलियानाला क्षेत्र में भूस्खलन की आशंका को देखते हुए प्रशासन अलर्ट हो गया है। पालिका ने खतरे की जद में आए 55 प्रभावितों को आवास खाली कराने के नोटिस जारी किए हैं, लेकिन प्रभावित आवास छोड़कर जाने को तैयार नहीं है। 55 नोटिस में से केवल छह लोगों ने ही नोटिस रिसीव किए हैं। अब प्रशासन क्षेत्र के लोगों से वार्ता कर मामला सुलझाने का प्रयास करेगा।

शुक्रवार को एसडीएम विनोद कुमार क्षेत्र के लोगों से वार्ता करेंगे। संवेदनशील बलियानाले में वर्षो से भूस्खलन जारी है। तलहटी से शुरू हुए भूस्खलन ने धीरे-धीरे पूरी पहाड़ी को जद में ले लिया है। 2013 में बड़े भूस्खलन के बाद खतरे की जद में आए लोगों को विस्थापित करने की कवायद पालिका ने शुरू की थी। सात वर्षो में केवल 98 लोगों को अन्यत्र विस्थापित किया जा सका है। 2018 में जायका ने क्षेत्र का सर्वे कर अन्य 55 परिवारों को खतरे की जद में बताया।

यह भी पढ़े :  हिमाचल में मंत्रिमंडल विस्तार, उत्तराखंड में इंतजार, सियासी हलकों में अटकलें तेज

इस बीच बीते वर्ष पालिका ने जिन लोगों को अन्यत्र विस्थापित कर दिया था, बरसात के बाद वे दोबारा अपने आवासों में आकर रहने लगे। अब बरसात बढ़ने से प्रशासन एक बार फिर चिंता में है। गुरुवार को पालिका टीम चिह्नित किये गए 55 लोगों को दस दिन में आवास खाली कराने का नोटिस थमाने क्षेत्र में पहुंची, लेकिन क्षेत्रवासियों ने विरोध करते हुए नोटिस लेने से मना कर दिया, जिससे पालिकाकर्मियों को बैरंग लौटना पड़ा।

नैनीताल में बारिश से जनजीवन ठहरा, एरीज मार्ग छह घंट रहा बंद

सरोवर नगरी में गुरुवार को जबरदस्त बारिश हुई। इससे लोअर मालरोड पर जलभराव हो गया। नाले भी उफान पर रहे। एरीज जाने वाले मार्ग पर भारी भूस्खलन हो गया है, जिस कारण सड़क करीब नौ घंटे तक बंद रही। जिले में सुबह छह सड़कें बंद थीं, जिसमें से चार लोनिवि ने खोल दी है।

जिला कंट्रोल रूम के अनुसार फिलहाल कालाखेत-दिखतरी व देवीधूरा-बोहरागांव सड़क बंद है। इधर, लगातार हो रही बारिश के चलते झील का जलस्तर 11 फीट पहुंच गया है। झील का जल स्तर सामान्य से अधिक होने के कारण झील के चैनल खूले रहे। जीआईसी मौसम विज्ञान केंद्र के अनुसार पिछले 24 घटे के दौरान 70 मिमी बारिश रिकार्ड की गई।

यह भी पढ़े :   उत्तराखंड: मतपत्रों में चुनाव चिन्ह के साथ फोटो मामले में हाईकोर्ट में होगी विस्तृत सुनवाई