ज्वैलरी शॉप लूटकांड: 64 लाख का माल सिर्फ चार मिनट में उड़ाया

451

प्रेमनगर में ज्वैलरी शॉप में 64 लाख की लूट की वारदात को अंजाम देने में बदमाशों को महज चार मिनट का वक्त लगा। लेकिन, इस चार मिनट की वारदात के लिए बदमाश पिछले दो दिनों से दुकान के आसपास मंडरा रहे थे। फिर भी बदमाशों की गतिविधियों पर किसी को शक न होना अपने आपमें बड़ा सवाल खड़ा करता है। इलाके के व्यापारी दहशत में हैं, क्योंकि चार महीने पूर्व यहां पेट्रोल पंप मालिक के बेटे को गोली मार कर लूट की वारदात को अंजाम दिया गया था। तब पुलिस ने दावा किया था कि इलाके में सुरक्षा के पुख्ता प्रबंध किए जा रहे हैं, लेकिन इसकी हवा चंद महीने में ही निकल गई।

प्रेमनगर बाजार लुटेरों के टारगेट पर है और अपराधियों के छिपने का मुफीद स्थान भी बनता जा रहा है। इसकी एक नहीं कई वजह हैं, जिन पर पर तब गौर करती है, जब कोई बड़ी वारदात को अंजाम दे दिया जाता है। सबसे बड़ा कारण यह कि प्र्रेमनगर बाजार की शहर से दूरी दस किलोमीटर है और प्रेमनगर के सुद्धोवाला बाजार के सुनसान इलाका शुरू हो जाता है। दूसरा यहां दर्जनों की संख्या में शैक्षणिक संस्थान हैं, जहां हजारों की संख्या में छात्र-छात्राएं रहते हैं। जिनकी आड़ में बदमाशों को यहां छिपने में आसानी होती है और वह वारदात को अंजाम देकर आसानी से भाग भी जाते हैं। देव ज्वैलर्स में हुई लाखों की वारदात को अंजाम देने वाले बदमाशों की मोड्स ऑपरेंडी इन सब बातों की ओर इशारा कर जाती है।

यह भी पढ़े : राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार को भेजा जाएगा तेंदुए से दो-दो हाथ करने वाली बच्‍ची का नाम

किटी का भी कारोबार करता है ज्वेलर

देवेंद्र कुमार किटी का भी कारोबार करता है। नवंबर में उसके यहां लगाई गई किटी की अवधि पूरी हो रही है। आशंका यह भी हो सकती है कि बदमाशों को इस बात की भनक रही हो कि किटी से उसने लाखों रुपये कमाए हैं और वहां से मोटा माल मिल सकता है। फिलहाल पुलिस घटना से जुड़े हर एंगल पर बारीकी से नजर बनाए हुए है।

पर्दाफाश को लगी आठ टीमें

एसएसपी अरुण मोहन जोशी ने ज्वैलर्स लूटकांड के खुलासे को लेकर एसपी सिटी श्वेता चौबे, एसपी देहात प्रमेंद्र डोबाल, एसओजी समेत कुल आठ टीमों को लगाया है। टीमें प्रेमनगर से सहसपुर, नयागांव, बड़ोवाला समेत अन्य जगहों को निकलने वाले रास्तों पर लगे कैमरे की फुटेज खंगाल रही है।

देर रात एसएसपी ने लिया फीडबैक

एसएसपी अरुण मोहन जोशी ने सोमवार देर रात अपने आवास पर अधिकारियों एवं सभी थानों के प्रभारियों के साथ बैठक की, जिसमें उन्होंने त्योहारी सीजन में इस तरह की वारदातों को लेकर खास रणनीति बनाने और दिन-रात हर समय अलर्ट रहने का निर्देश दिया।

निश्शुल्क मिलेगी पुलिस

एसएसपी ने व्यापारियों से आग्रह किया कि त्योहारी सीजन में बिक्री के बाद कैश जमा कराने जाने से पहले पुलिस को इत्तला करें। संबंधित थाने से उनकी सुरक्षा में पुलिस उनके साथ जाएगी। इसके लिए उनसे कोई शुल्क भी नहीं लिया जाएगा। एसएसपी ने कहा कि अक्सर बदमाश इन सब बातों पर गौर करने के बाद ही वारदात को अंजाम देते हैं।

डकैतों-लुटेरों के निशाने पर देहरादून

अभिमन्यु क्रिकेट ऐकेडमी के संचालक आरपी ईश्वरन के घर डकैती डालने वाले गैंग का पर्दाफाश कर देने वाली देहरादून पुलिस के लिए यह दो मामले अभी भी चुनौती बने हुए हैं। वसंत विहार में शराब ठेके के मैनेजर और नेहरू कॉलोनी क्षेत्र में ज्वेलरी शॉप में हुई लूट के मामले महीनों बाद भी पुलिस गुत्थी नहीं सुलझा सकी है।

विगत एक-डेढ़ साल के दौरान दून पुलिस की छवि ऐसी बन गई थी कि बदमाश कितना ही शातिर क्यों न हो, दून पुलिस की गिरफ्त में आने नहीं बच सकता। एसएसपी अरुण मोहन जोशी के कमान संभालने के डेढ़ महीने बाद हुई आरपी ईश्वरन के घर हुई सनसनीखेज डकैती कांड का पुलिस ने न सिर्फ पर्दाफाश किया, बल्कि वीरेंद्र ठाकुर गैंग के द्वारा की गई परिवहन विभाग के आरआइ आलोक कुमार के घर डकैती का साढ़े महीने बाद राजफाश करने के साथ ऐसे गैंग को बेनकाब किया, जो कभी पुलिस की गिरफ्त में आया ही नहीं था।

मगर सोमवार को प्रेमनगर में दिनदहाड़े ज्वेलर्स के यहां लूट की वारदात से सवाल खड़ा हो गया है कि क्या पुलिस डकैतों-लुटेरों में डर भर पाने कामयाब हो पाई है। बता दें कि प्रेमनगर में बीते 24 जून को पेट्रोल पंप मालिक के बेटे को गोली मार कर लूट की वारदात को अंजाम दिया गया था।

वारदात एक: 14 फरवरी को वसंत विहार में शराब ठेके के मैनेजर पर जानलेवा हमला कर दो बदमाशों ने पांच लाख रुपये लूट लिए थे। मैनेजर शिवशंकर यादव पुत्र हरिहरन यादव मूलरूप से ग्राम सरैया थाना व पोस्ट शादात जिला गाजीपुर (उत्तर प्रदेश) के रहने वाले थे, उनकी उपचार के दौरान बीते छह मार्च को मौत हो गई।

यह भी पढ़े : दशहरा पर्व: आज होगा चूर-चूर लंकापति रावण का अहंकार