Haridwar Kumbh Mela 2021: हरिद्वार कुंभ में आने पर कराना होगा पंजीकरण, होगी थर्मल स्क्रीनिंग

50

हरिद्वार कुंभ-2021 की व्यवस्थाओं को लेकर बुधवार को मेला नियंत्रण भवन (सीसीआर) में देर रात चली समीक्षा बैठक में मेलाधिकारी दीपक रावत ने कोविड-19 के मद्देनजर व्यवस्थाओं पर चर्चा की। मेलाधिकारी दीपक रावत ने कुंभ में आने वाले यात्रियों के पंजीकरण के लिए निर्देश दिए है। उन्होंने कहा कि जो भी कुंभ मेला क्षेत्र में प्रवेश करेगा, पंजीकरण कराकर आएगा। कहा कि फिलवक्त हम पंजीकरण की जांच कर रहे हैं, और पंजीकरण संख्या नोट कर रहे हैं। इसके अलावा जो यात्री बस या ट्रेन से आएंगे, उन्हें यात्रा आरंभ करने वाले स्थल पर थर्मल स्क्रीनिंग करानी होगी। उन्होंने मुफ्त मास्क उपलब्ध कराने के साथ ही निर्देश दिया कि कुंभ के दौरान किसी भी श्रद्धालु को बिना मास्क के घाट पर प्रवेश की अनुमति नहीं होगी। साथ ही सभी दुकानदारों को अनिवार्य रूप से कोविड-19 की गाइडलाइन का पालन करना होगा। दुकानदारों को इसका प्रशिक्षण दिया जाएगा।

यह भी पढ़ें :  निगम कार्मिकों को मिले अटल आयुष्मान का लाभ

बैठक में कोविड-19 के दृष्टिगत अस्पतालों की क्षमता, नए अस्पतालों का सृजन और अस्पतालों में बिस्तर आदि की उपलब्धता को लेकर भी चर्चा की गई। अतिक्रमण हटाने के निर्देश भी दिए। पार्किंग के लिए तय स्थानों को समतल करने के लिए आइजी कुंभ मेला संजय गुंज्याल ने दिशा-निर्देश दिए। उन्होंने कनखल, मायापुर, जगजीतपुर, बैरागी, दक्षदीप, गौरीशंकर, रोड़ीवाला, लालजीवाला, पन्तदीप, भीमगौड़ा, सप्त सरोवर, रानीपुर आदि पार्किंग स्थलों को लेकर भी यही व्यवस्था करने के निर्देश दिए। खड़खड़ी श्मशान क्षेत्र के पुल को जल्द शुरू करने एवं चंडीपुल को डबल लेन करने के निर्देश दिए। बैठक में वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक सेंथिल अबुदई कृष्णराज एस, अपर मेलाधिकारी कुंभ ललित नारायण मिश्रा एवं रामजी शरण शर्मा, एसपी सिटी कमलेश उपाध्याय, एसपी मनीषा, स्वास्थ्य मेला अधिकारी अर्जुन सिंह सेंगर, विशेष कार्याधिकारी कुंभ मेला, महेश चंद्र शर्मा, सिंचाई-पीडब्ल्यूडी, नगर निगम, विद्युत, सहित संबंधित विभागों के अधिकारी उपस्थित थे।

एनओसी को लेकर सिंचाई विभाग के अधीक्षण अभियंता को लगाई फटकार

अंडर ग्राउंड गैस पाइप लाइन के लिए रोड कटिंग आदि को अनापत्ति प्रमाण पत्र (एनओसी) को लेकर पैदा स्थिति पर कुंभ कार्यों की समीक्षा बैठक में कुंभ मेलाधिकारी दीपक रावत ने इसके लिए सिंचाई के वरिष्ठ अधिकारी को जमकर फटकार लगाई। उन्होंने चेतावनी दी कि इस मामले में लापरवाही बरती गई या कोई दुर्भावना बरती गई तो कार्रवाई की जाएगी। हालांकि, यह काम कुंभ कार्य का हिस्सा नहीं है पर, इससे कुंभ कार्य प्रभावित होने की आशंका व्याप्त हो गई है। मेलाधिकारी की नाराजगी इसी बात को लेकर थी।

उन्होंने इस मामले में सिंचाई विभाग के अधीक्षण अभियंता (सिंचाई कार्य मंडल देहरादून) आरके तिवारी से कड़े शब्दों में जवाब तलब करते हुए उन्हें इस मामले में तत्काल स्थिति स्पष्ट करने के निर्देश दिए। अधीक्षण अभियंता आरके तिवारी ने बैठक के बाद पूछे जाने पर बताया कि संबंधित कार्यदायी संस्था ने एनओसी के लिए नियमानुसार अब तक आवेदन ही नहीं किया है, जब वह इसके लिए आवेदन करेगी, तब कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने जोर देकर कहा कि यह कार्य कुंभ मेला कार्य से संबंधित नहीं है और मेलाधिकारी ने उनसे इस बारे में सामान्य पूछताछ की थी।