ऋषिकेश में जीएमवीएन का होटल बनेगा कोविड केयर सेंटर

14

कोरोना की दूसरी लहर के जोर पकडऩे के बाद अब संक्रमण की रोकथाम संबंधी संसाधन कम पड़ने लगे हैं। पिछले साल संक्रमण की रोकथाम के लिए तमाम संसाधन जुटाए गए थे और बड़ी संख्या निजी/सरकारी संपत्तियों का अधिग्रहण किया गया था। हालांकि, अब जिला प्रशासन ने दोबारा से संसाधन जुटाने शुरू कर दिए हैं। इस कड़ी में ऋषिकेश में जीएमवीएन के होटल का अधिग्रहण कोविड केयर सेंटर बनाने के लिए किया गया है।

जिलाधिकारी डॉ. आशीष श्रीवास्तव के मुताबिक, कुंभ मेले के मद्देनजर ऋषिकेश क्षेत्र में भी बड़ी संख्या में बाहरी राज्यों के निवासियों का आगमन हो रहा है। इससे वहां संक्रमण की दर बढ़ने लगी है। ऋषिकेश के उपजिलाधिकारी ने इस बाबत पत्र लिखकर अवगत कराया था। लिहाजा, उत्तराखंड महामारी अधिनियम व कोविड-19 नियमन आदि के तहत दी गई शक्तियों का प्रयोग करते हुए जीएमवीएन के होटल का अधिग्रहण कर लिया गया है। यहां कोविड केयर सेंटर के अनुरूप सुविधाएं जुटाई जा रही हैं। ताकि कोरोना संक्रमित मरीजों को उनके स्वास्थ्य की स्थिति के अनुरूप सेंटर में रखा जा सके।

यह भी पढ़ें :   लालकुआं-हावड़ा एक्सप्रेस का संचालन 16 से, रामनगर-आगरा फोर्ट 11 से चलेगी

बॉर्डर पर देर रात एसएसपी ने जांची व्यवस्था

देहरादून की सीमाओं पर कोरोना महामारी को लेकर सतर्कता बरती जा रही है। आने-जाने वाले वाहनों की जांच के साथ व्यक्तियों की कोरोना जांच भी की जा रही है। सोमवार को देर रात वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक बॉर्डर पर व्यवस्थाओं का जायजा लेने पहुंचे। उन्होंने थाना सहसपुर के तहत चौकी सभावाला, दर्रारेट चेक पोस्ट और थाना विकासनगर के तहत कुल्हाल चेक पोस्ट का निरीक्षण किया।

निरीक्षण के दौरान वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक डॉ. योगेंद्र सिंह रावत ने दर्रारेट व कुल्हाल में हो रही चेकिंग और कोरोना जांच केंद्र का जायजा लिया। पुलिस और स्वास्थ्य कर्मियों को आवश्यक दिशा-निर्देश दिए। रात के समय दर्रारेट चेक पोस्ट पर बाहर से आने वाले यात्रियों की कोरोना जांच के लिए मेडिकल टीम तैनात न होने पर वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ने नाराजगी जताई। सहसपुर थानाध्यक्ष को निर्देशित किया कि संबंधित उपजिलाधिकारी से समन्वय स्थापित कर रात्रि के समय भी कोरोना जांच के लिए मेडिकल टीम नियुक्त कराई जाए। साथ ही सभावाला चौकी के निरीक्षण के दौरान चौकी प्रभारी को ओवरलोडिंग और ओवर स्पीडिंग करने वाले वाहन चालकों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई के निर्देश दिए।