कार्तिक पूर्णिमा पर रामनगर में मेला स्थगित होने के बाद गिरिजा मंदिर भी बंद कराया

36

कोरोना के बढ़ते खतरे को देखते हुए कार्तिक पूर्णिमा पर लगने वाला गंगा स्नान मेला स्थगित होने के बाद मंदिर को भी बंद कर दिया गया है। गंगा स्नान में पहली बार मंदिर बंद हुआ है। गिरिजा मंदिर में कार्तिक पूर्णिमा पर हर साल बड़े स्तर पर गंगा स्नान मेले का आयोजन होता है।

उत्तराखंड के अलावा उप्र के मुरादाबाद, शाहजहांपुर, चंदौसी, रामपुर, धामपुर, नगीना, उधमसिंहनगर जिले के कई शहरों से लगभग एक लाख श्रद्धालु गंगा स्नान मेले में पहुंचते हैं। तड़के ही कोसी नदी में स्नान करने के बाद श्रद्धालु मां गिरिजा के दर्शन के लिए कतार में लग जाते थे। इस बार कोविड के खतरे को देखते हुए मंदिर समिति ने इस आयोजन को स्थगित कर दिया था। क्योंकि गंगा स्नान के लिए कोसी में भीड़ लगने से संक्रमण का खतरा बढ़ता।

यह भी पढ़ें :   Amit Shah In Hyderabad : अमित शाह बोले, हम हैदराबाद को दिलाना चाहते हैं निजाम संस्कृति से मुक्ति

पुलिस प्रशासन भी बाहर से आने वाले श्रद्धालुओं को रोकने के लिए बेरियर लगाकर तैयारी कर चुका था। इस बीच प्रशासन की ओर से रविवार रात में मन्दिर को भी सोमवार को बंद करने को कहा गया। इसके बाद समिति ने प्रशासन के अनुरोध पर आज गंगा स्नान के दिन मन्दिर को बंद कर दिया है।

गिरिजा पुलिस चौकी पर सुबह श्रद्धालुओं को लौटाया गया। गिरिजा मन्दिर समिति के सचिव डा. देवी दत्त दानी ने बताया कि पहले केवल मेले का आयोजन स्थगित किया था। सोमवार को गिरिजा मंदिर को भी बंद कर दिया है। मंदिर को श्रद्धालुओं के लिए मंगलवार को खोला जाएगा।

यह भी पढ़ें :   पुलिस महानिदेश रतूड़ी आज हो रहे सेवानिवृत्त, विदाई समारोह पर भव्य परेड; तस्वीरों में देखें आयोजन