तीन किलो सोने के साथ तीन भारतीय व दो नेपाली तस्कर दबोचे, 48 घंटे में पकड़ा 9 किलो सोना

1494

नेपाल में तीन किलो सोने के साथ टनकपुर के एक खनन कारोबारी, एक ठेकेदार समेत तीन लोगों की गिरफ्तारी से सुरक्षा एजेंसियों में हड़कंप मचा हुआ है। नेपाल पुलिस ने शनिवार को यह मामला पकड़ा है। गोल्ड तस्करी के इस मामले में गिरफ्तार पांच लोगों में एक महिला समेत दो लोग नेपाल मूल के हैं।

नेपाल पुलिस का अनुमान है कि नेपाल के रास्ते चीन से सोना तस्करी कर लाया जा रहा है। इसकी वजह चीन में सोने का सस्ता होना बताया जा रहा है।

नेपाल पुलिस के सूत्रों के अनुसार नेपाल से करीब 38 क्विंटल सोने की तस्करी की सूचना है। इसके चलते अलर्ट नेपाल पुलिस ने अलग-अलग सीमा क्षेत्र में अवैध रूप से ले जाया जा रहा करीब नौ किलो सोना बरामद किया है। इसी क्रम में नेपाल पुलिस ने शनिवार को नेपाल के नागढुंगा में अल्टो कार UK02-3684 से पांच लोगों को तीन किलो सोने के साथ दबोचा था।

यह भी पढ़ें – स्विफ़्ट कार दुर्घटनाग्रस्त : एक की मौत पांच घायल

पूछताछ में आरोपियों ने अपना नाम टनकपुर के शारदा चुंगी कॉलोनी निवासी अशोक कुमार उर्फ अशोक कालिया पुत्र मोहन लाल, ज्ञानखेड़ा निवासी चंद्रमोहन जोशी पुत्र पितांबर जोशी और टनकपुर के ही दीपक मौर्य के अलावा नेपाल निवासी महिला संजना साह और मनोज विक बताया।

पूछताछ में आरोपियों ने पिछले तीन माह में चौथी बार काठमांडू से सोने के बिस्कुटों की तस्करी करना कबूला है। अशोक कुमार उर्फ कालिया ठेकेदार तो दूसरा आरोपी चंद्रमोहन जोशी खनन कारोबारी है। तीसरे आरोपी कार चालक दीपक मौर्य के बारे में स्पष्ट जानकारी नहीं मिल पाई है।

यह भी पढ़ें – बच्चों से करवाता था अश्लील काम, बनाता था वीडियो, आठ बच्चे बन चुके हैं शिकार

नेपाल पुलिस के मुताबिक वह भी टनकपुर का ही निवासी है। पकड़ी गई महिला संजना साह गिरफ्तार हुए अशोक कुमार उर्फ कालिया की पत्नी बताई गई है, जो मूल रूप से नेपाल की निवासी है। पांचवां आरोपी मनोज विक महेंद्रनगर नेपाल के वार्ड संख्या छह का निवासी है।

कार के एयर फिल्टर में छिपाकर रखा गया था सोना
नेपाल के महानगरीय प्रहरी (पुलिस) परिसर काठमांडू के प्रमुख विश्वराज पोखरेल ने बताया कि गिरफ्तार तस्करों ने सोना कार के एयर फिल्टर में छिपा कर रखा था। इसे काठमांडू से महेंद्रनगर के रास्ते भारत ले जाया जा रहा था। बताया कि पकड़े गए सोने की कीमत करीब डेढ़ करोड़ रुपये (भारतीय मुद्रा) आंकी गई है। जबकि नेपाल में इसकी कीमत छह करोड़ रुपये आंकी गई है।

यह भी पढ़ें – न कफ़न नसीब हुआ न लकड़ी…

सोने के बिस्कुट टनकपुर भी आ चुके है
इससे पूर्व भी काठमांडू से सोने के बिस्कुट टनकपुर लाए गए थे। एक सोना व्यापारी ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि पूर्व में भी सोने के बिस्कुट तस्करों द्वारा टनकपुर में भी सोना बेचने के प्रयास किए गए थे। व्यापारी ने बताया कि सोना तस्करों द्वारा यह कहा जाता रहा कि वह सोने के बिस्कुट रख ले व इसके एवज में उन्हें रकम धीरे-धीरे अदा करते रहे।

नेपाल में सोना पकड़े जाने से खूफिया एजेंसियां अलर्ट
नेपाल पुलिस के द्वारा तीन किलो सोने की तस्करी कर भारत आ रहे तीन भारतीयों के साथ पाच लोगों को पकड़ने जाने के बाद सीमा पर एसएसबी, पुलिस, कस्टम के अलावा खुफिया विभाग चौकन्ना हो गया है। पुलिस और एसएसबी ने सीमा पर सघन चेकिंग शुरू कर हर आने -जाने वालों की सघनता से तलाशी शुरू कर दी है।

यह भी पढ़ें – भूस्खलन के मलबे में दबी कार, दिल्ली से मसूरी घूमने आये थे पर्यटक

शारदा बैराज चौकी प्रभारी सुरेंद्र सिंह खड़ायत ने बताया कि नेपाल में सोने के साथ भारतीयों के पकड़ने की सूचना के बाद हर आने-जाने वाले की सघनता से चेकिंग की जा रही है।

पहले से थी तस्करी की जानकारी
सूत्रों की मानें तो नेपाल पुलिस को तस्करों द्वारा चीन से सोने की तस्करी कर भारत लाने की सूचना पहले से ही थी। तस्करों के महेंद्रनगर से काठमांडू की ओर निकलने पर पुलिस और भंसार (कस्टम) की टीम उनके पीछे लग गई थी। इस टीम की सूचना पर ही महानगरीय प्रहरी परिसर और नागढुंगा नाका पुलिस टीम ने घेराबंदी कर तस्करों को सोने के साथ दबोच लिया।

यह भी पढ़ें – यूटिलिटि दुर्घटना में एक गर्भवती महिला की मौत, सात घायल

चीन में सस्ता है सोना
चीन से सोने तस्करी की वजह भारत और नेपाल की अपेक्षा चीन में सोने का सस्ता होना बताया जा रहा है। जानकारों के मुताबिक चीन में सोने का थोक मूल्य 20 हजार रुपये प्रति तोला है, जबकि नेपाल में 60 हजार (नेपाली मुद्रा) तो भारत में करीब 32 हजार तोला सोने का मूल्य है।

इधर तस्करी में टनकपुर के लोगों की लिप्तता से भारतीय सुरक्षा एजेंसियों में भी हड़कंप मचा है। एजेंसियां नेपाल पुलिस से संपर्क कर तस्करी के इस मामले में जानकारी जुटाने में लगी हैं।