चौंकाने वाली रिपोर्ट : नेपाली बस रहे पहाड़ों में, पहाड़ी कर रहे पलायन

9601
छह पहाड़ी जिलों के 30 विकासखंडों में ज्यादा पलायन होने की बात सामने आई है

उत्तराखंड पलायन आयोग ने सरकार को अपनी रिपोर्ट सौंप दी है। प्रदेश भर में करीब 7000 ग्राम पंचायतों में सर्वे के आधार पर तैयार 84 पन्नों की इस रिपोर्ट में छह पहाड़ी जिलों के 30 विकासखंडों में ज्यादा पलायन होने की बात सामने आई है। रिपोर्ट के हिसाब से पहाड़ अब नेपाल बनने वाला है। यहां से पहाड़ी पलायन कर रहे हैं, जबकि नेपाली बस रहे हैं।

उत्तराखंड सरकार ने गत सितंबर में भारतीय वन सेवा से रिटायर्ड अधिकारी एसएस नेगी के नेतृत्व में उत्तराखंड पलायन आयोग का गठन कर पलायन की असल स्थिति और कारण जानने की दिशा में पहल की थी। आयोग का कार्यालय पौड़ी स्थित ग्राम विकास आयुक्त मुख्यालय में बनाया गया है। करीब छह महीने बाद आयोग ने अब सरकार को अपनी रिपोर्ट सौंप दी है। सूत्रों के अनुसार रिपोर्ट में पलायन की मिली-जुली तस्वीर सामने आई है। रिपोर्ट में जहां छह पहाड़ी जिलों के 30 विकास क्षेत्रों को पलायन से ज्यादा प्रभावित बताया गया है वहीं कई जगह रिवर्स पलायन की बात भी कही गई है।

आयोग ने प्रदेश भर में सौ से अधिक ऐसे लोगों और संस्थाओं को भी चिन्हित किया है जिन्होंने पहाड़ में आकर नए सिरे से पर्यटन, डेयरी, फूड प्रोसेसिंग, उद्यान और खेती में सफल कारोबार खड़ा किया है। रिपोर्ट में नैनीताल जिले के बेतालघाट में काम कर रहे रूरल बीपीओ ‘बीटूआर’ का खासकर उल्लेख किया गया है, यह बीपीओ आसपास के कई गांवों में युवाओं और महिलाओं को रोजगार दे रहा है। इसी तरह के कई प्रयोग पहाड़ में हो रहे हैं, इन युवाओं को रिवर्स पलायन के आदर्श मॉडल के तौर पर प्रस्तुत किया गया है। आयोग के उपाध्यक्ष एसएस नेगी ने रिपोर्ट सौंपने की पुष्टि की है।

बदल रहा है पहाड़ का जनसांख्यिकी समीकरण
रिपोर्ट में पलायन के चलते पहाड़ में डेमोग्राफिक बदलाव का भी उल्लेख किया गया है। पिथौरागढ़, चंपावत जैसे जिलों में हाल के समय नेपाल से आए मजदूरों की संख्या काफी बढ़ी है, नेपाली मजदूर अब स्थायी रूप से पहाड़ों में रहकर खेती-बाड़ी को अपनी आजीविका का साधन बना रहे हैं। पहाड़ के स्कूलों में नेपाली मजदूरों के बच्चों की अच्छी संख्या हो चली है। वहीं भवन निर्माण के साथ ही छोटे-मोटे कारोबार करने के लिए उत्तराखंड से सटे वेस्ट यूपी के जिलों और बिहार से भी बड़ी संख्या में लोग पहाड़ों में रहने लगे हैं। जबकि यहां के मूल निवासी लगातार पलायन कर रहे हैं। जो साफ तौर पर डेमोग्राफिक बदलाव की वजह है।

1000 गांव हुए भुतहा
रिपोर्ट में पहाड़ों के कई गांवों का पूरी तरीके से भुतहा (जहां एक भी इंसान नहीं रहता) का उल्लेख किया गया है। सूत्रों के मुताबिक ऐसे गांव की संख्या 1000 से कुछ कम है। 2011 की जनगणना के बाद भी कई गांव खाली हो गए हैं। रिपोर्ट बताती है कि जिन जिलों में प्रतिव्यक्ति आय कम है, वहां ज्यादा पलायन हुआ है। नतीजों तक पहुंचने के लिए आयोग ने जनसंख्या और सरकार के आर्थिक आकंड़ों से भी पलायन की तुलना की है।

अब आगे क्या
इस रिपोर्ट के आधार पर सरकार इन चिन्हित विकासखंडों में विशेष कार्यक्रम चलाएगी। रिपोर्ट में यह भी बताया गया है कि पहाड़ों में किन-किन क्षेत्रों में क्या-क्या रोजगार परख कार्यक्रम चलाए जा सकते हैं। रिपोर्ट आधिकारिक तौर पर मुख्यमंत्री के द्वारा आने वाले दिनों में जारी किए जाने की उम्मीद है।