मुख्यमंत्री से मिलकर कोरोना संक्रमण पर साथ देने की पहल करेंगे दून के व्‍यापारी

29

शहर का व्यापारी वर्ग कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए अपने सुझाव को लेकर बुधवार को मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत से मिलेंगे। दून उद्योग व्यापार मंडल के पदाधिकारियों का मानना है कि कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए व्यापारी आने वाले तीन शनिवार व रविवार को अपने व्यापारिक प्रतिष्ठान बंद भी रख सकते हैं, लेकिन बाजार शत फीसद बंद होगा इसकी क्या गारंटी है। यदि सभी बाजारों में पांच-छह दुकानें खुली रहती हैं तो ऐसे में वहां ग्राहक भी आएंगे। ऐसी स्थिति में कोरोना संक्रमण की चैन कैसे टूटेगी। यदि जिला प्रशासन आने वाले तीनशनिवार व रविवार को बाजार में अनिवार्य लॉकडाउन घोषित करता है तो ऐसे में सभी दुकानदारों की सरकार के नियमों का पालन करना होगा।

इसमें कोई संगठन या कोई व्यापारी नाराज भी नहीं हो सकता है। क्योंकि कोरोना संक्रमण को रोकने की सभी जन की सामूहिक जिम्मेदारी है। दून उद्योग व्यापार मंडल के कार्यकारी अध्यक्ष सिद्धार्थ उमेश अग्रवाल ने कहा कि मुख्यमंत्री से मिलने के बाद व्यापारी जिलाधिकारी से भी मिलकर करोनो संक्रमण की रोकथाम में व्यापारियों की ओर से दिए जाने वाले सहयोग पर चर्चा करेंगे। उधर, दून उद्योग व्यापार मंडल के महामंत्री सुनील मैसोन ने कहा कि बुधवार को मुख्यमंत्री से मुलाकात के दौरान कोरोना संक्रमण की बढ़ती रफ्तार पर व्यापारी वर्ग की चिंता से अवगत करवाया जाएगा। रविवार व अन्य छुट्टी के दिन दून से मसूरी तक शहर के सैंकड़ों लोग सैर सपाटे के लिए निकल रहे हैं जो इस समय गंभीर चिंता का विषय है।

यह भी पढ़े :   विकास भवन परिसर में लहलहा रही औषधीय वनस्पतियों से समृद्ध नव ग्रह व नक्षत्र वाटिका

सरकार से सहयोग की रहेगी उम्मीद

दून वैली महानगर उद्योग व्यापार मंडल के अध्यक्ष पंकज मैसोन से कहा कि व्यापारी अपनी मर्जी से दुकानें बंद करते हैं तो जो घाटा उन्हें होगा उसकी भरपाई कैसे होगी। यदि जिला प्रशासन चौदह दिन के लिए या फिर आने वाले तीन शनिवार व रविवार को बाजार बंद करने का आदेश देता है तो इससे सरकार को व्यापारियों की आर्थिक मदद भी करनी होगी। कई व्यापार बैंकों के ऋण के बोझ तले दबे हैं। आर्थिक परेशानी से बिजली के बिल व दुकान पर काम करने वाले कर्मचारियों की सैलरी नहीं दे पा रहे हैं। ऐसे व्यापारियों की सरकार को मदद करनी चाहिए।

बाजार का समय नौ से पांच करे सरकार

कांग्रेस महानगर व्यापार प्रकोष्ठ की बैठक में सरकार से मांग की गई कि व्यापारियों को राहत देने के लिए सरकार कोई ठोस कदम उठाए, जिससे व्यापारी करोना महामारी के प्रभाव से बच सकें। कोरोना संक्रमण तेजी से फैल रहा है। जिसे देखते हुए सरकार बाजारों को सैनिटाइजर करवाए। बाजारों का समय सुबह नौ बजे से शाम के पांच बजे तक कर दिया जाए। इससे करोना की रोकथाम में मदद मिलेगी। व्यापार प्रकोष्ठ ने मांग की कि अगर किसी व्यापारी को करोना होता है उस व्यापारी को सरकारी कर्मचारियों की तरह उसका इलाज होना चाहिए।

उसके परिवार को जो परेशानी से उसको सरकार आर्थिक सहायता करें, क्योंकि व्यापारी पहले से ही कोरोना संक्रमण व स्मार्ट सिटी के निर्माण कार्यों के चलते घाटा झेल रहा है। दुकान के कर्मचारियों की पगार, बिजली का बिल व बैंक की ईएमआइ देने के लिए असमर्थ हैं। महानगर व्यापार प्रकोष्ठ अध्यक्ष सुनील कुमार बांगा ने प्रशासन से आग्रह किया कि सरकार व्यापारियों के लिए कोई ठोस कदम उठाए। बैठक में महानगर व्यापार प्रकोष्ठ के उपाध्यक्ष राजेश मित्तल, पलटन बाजार के अध्यक्ष नदीम बैग, पलटन बाजार महासचिव महताब आलम, उपाध्यक्ष प्रवीण बांगा, संयोजक राहुल, राजेंद्र सिंह, राजेंद्र सिंह नेगी, योगेश भटनागर,गगन कुकरेजा तीरथ सचदेवा आदि मौजूद रहे।