Coronavirus: उत्तराखंड में तेजी से बढ़ रहा कोरोना ग्राफ, दून अस्पताल का स्टाफ भी आया जद में

922

उत्तराखंड में कोरोना का ग्राफ लगातार बढ़ रहा है और देहरादून सर्वाधिक प्रभावित जिलों में शुमार है। जिस कारण दून मेडिकल कॉलेज चिकित्सालय के लिए भी चुनौतियां एकाएक बढ़ गई हैं। एक तरफ जहां मरीजों का बोझ बढ़ रहा है वहीं, अब स्टाफ भी संक्रमण से अछूता नहीं रहा। अस्पताल की एक महिला एनेस्थेटिस्ट में कोरोना की पुष्टि हुई है। अस्पताल में किसी चिकित्सक या कर्मचारी के संक्रमित होने का यह पहला मामला है।

स्टाफ को संक्रमण से मुक्त रखना तो अस्पताल के लिए चुनौती है ही, एक मुश्किल पर्याप्त वार्ड ब्वॉय, नर्स आदि का बंदोबस्त की भी है। क्योंकि अब स्टाफ मरीजों की संख्या के लिहाज से कम पड़ने लगा है। चिकित्सक पति और परिवार के अन्य सदस्य क्वारंटाइन दून मेडिकल कॉलेज अस्पताल के एनेस्थीसिया विभाग की एक चिकित्सक की कोरोना की जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। उन्हें अस्पताल में भर्ती कर दिया गया हैं।
वहीं, उनके चिकित्सक पति और परिवार के अन्य सदस्यों को क्वारंटाइन किया गया हैं। डाक्टर के कोरोना संक्रमित पाए जाने के बाद अस्पताल स्टाफ में भय है। डिप्टी एमएस डा. एनएस खत्री ने बताया कि महिला चिकित्सक की स्थिति सामान्य है। वह संक्रमित मरीजों के वार्ड और आइसीयू में ड्यूटी कर रही थीं। उनके पति भी अस्पताल में ही एक विभाग के एचओडी हैं, उन्हें एहतियात के तौर पर क्वारंटाइन किया गया है। बताया कि महिला चिकित्सक ड्यूटी के दौरान समीप ही एक होटल में ही रुक रही थीं।

20 स्टॉफ नर्स और 20 वार्ड ब्वॉय की होगी नियुक्ति 

अस्पताल में मरीजों की बढ़ती संख्या के लिहाज से स्टाफ का बंदोबस्त करना भी चुनौती है। फिलवक्त यहां तीन सौ संक्रमित और संदिग्ध मरीजों को रखने की क्षमता है, जिसे 100 बेड और बढ़ाया जा रहा है। पर नर्सिंग स्टॉफ और वार्ड ब्वॉय उस अनुपात में नहीं हैं। अभी नियमित नर्संग स्टॉफ 83, संविदा स्टॉफ 45, मेडिकल कॉलेज के सात है।
इसके अलावा कोरोना शुरू होने पर 80 नर्सिंग स्टॉफ भर्ती हुआ, उसमें से 10 गांधी और 14 को कोरोनेशन भेज दिया गया है। मुश्किल यह कि गाइडलाइन के मुताबिक सात दिन ड्यूटी करने के बाद स्टॉफ को क्वारंटाइन भी किया जा रहा है। जिस वजह से भी दिक्कत हो रही है। एमएस डॉ. केके टम्टा ने बताया कि 20 स्टॉफ नर्स और 20 वार्ड ब्वॉय की भर्ती की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। वक्त रहते स्टाफ की व्यवस्था कर ली जाएगी।