किटी के नाम पर करोड़ो की ठगी का मामला, संचालिका की एजेंट पर भी मुकदमा

1873

किटी संचालिका पूनम कौर की एजेंट शालिनी वर्मा पर भी शहर कोतवाली पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर लिया है। ठगी की शिकार महिलाओं का आरोप है कि शालिनी वर्मा ने उन्हें पूनम कौर से मिलवाया था और लालच दिया था कि यहां किटी लगाकर मोटा मुनाफा कमाया जा सकता है। पूनम को पुलिस बीते गुरुवार को ही गिरफ्तार कर जेल भेज चुकी है।

किटी के नाम पर हुई करोड़ों की ठगी का खुलासा बीती छह मई को हुआ था। तब शालिनी वर्मा पत्नी अतुल वर्मा निवासी पलटन बाजार ने पूनम कौर और उसके पति स्व. पुष्पेंद्र उर्फ साहिल निवासी रक्षा विहार रायपुर पर आरोप लगाया था कि वह चार-पांच सौ महिलाओं के किटी के करीब तीन करोड़ रुपये लेकर फरार हो गए हैं। पुलिस के अनुसार पुष्पेंद्र उर्फ साहिल की बीती आठ जून को दिल्ली में मृत्यु हो गई।

 इस खबर को भी पढ़िए :  शादी का झांसा देकर युवती से चार साल तक दुष्कर्म, फिर मुकरा युवक

इधर, शनिवार को शहर कोतवाली पहुंची अंजू सहगल पत्नी अशोक सहगल निवासी पटेलनगर, शालू त्यागी, असिध शर्मा व सुनीता शर्मा निवासी गण पार्क रोड ने तहरीर दी कि शालिनी वर्मा ने ही उन सभी की मुलाकात पूनम कौर से कराई थी। शालिनी ने कहा था कि पूनम के यहां किटी लगाने पर उन सभी को अच्छा मुनाफा मिलेगा। उसकी बातों में आकर उन सभी ने पैसे लगाए थे।

पूनम पर मुकदमा दर्ज कराकर शालिनी अपनी जवाबदेही से बचना चाह रही थी। एसएसआइ कोतवाली अशोक राठौर ने बताया कि शालिनी वर्मा पूनम कौर के लिए एजेंट का काम करती थी। वैसे तो वह बुटीक चलाती है, लेकिन इसके साथ ही वह पूनम कौर के भी संपर्क में थी। पहले उसने खुद पैसे लगाए और बाद में कई और लोगों को पूनम की सुखमणि किटी से जोड़ा।

सुनीता खत्री और उसकी बेटियों पर एक और मुकदमा

किटी के करोड़ों रुपये डकारने के मामले में गिरफ्तार सुनीता खत्री और फरार चल रही उसकी बेटियों पर शहर कोतवाली में एक और मुकदमा पंजीकृत कर लिया गया। मामले में बीती तीन मई को नेहरू कॉलोनी थाने में मुकदमा पंजीकृत हुआ था। वहीं, अब शहर कोतवाली क्षेत्र की नेहा पारीख निवासी अजबपुर कला नेहरू कॉलोनी व सतनाम कौर निवासी धामावाला ने सुनीता खत्री पर मुकदमा दर्ज कराया है।

 इस खबर को भी पढ़िए :  सावधान, बाजार के मिलावटी दूध से कैंसर का खतरा