हिरासत में छात्र की मौत मामले में सिडकुल चौकी प्रभारी समेत स्टाफ पर हत्या का मामला दर्ज

249

पुलिस हिरासत में हुई छात्र की मौत के मामले में सिडकुल चौकी प्रभारी व चौकी स्टाफ के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज कर लिया गया है।

गुरुवार को चोरी के सिलसिले में पूछताछ के लिए लाए गए छात्र की चौकी के हवालात में मौत हो गई थी। सिसौना निवासी वीरेंद्र सिंह राणा ने पुलिस को दी तहरीर में कहा है कि नौ जुलाई को सिसौना में राजवीर उर्फ राजा के घर में चोरी की घटना हुई थी। सीसीटीवी फुटेज के शक के आधार पर सिडकुल चौकी प्रभारी पंकज सिंह महर व उनके स्टाफ के पुलिस कर्मियों ने 10 जुलाई को उनके नाबालिग पुत्र धीरज को पूर्वाह्न साढ़े ग्यारह बजे सिडकुल के रास्ते से ही उठा लिया।

इसकी जानकारी उन्होंने परिवारवालों को भी नहीं दी। 11 जुलाई को शाम 4 बजे किसी अन्य व्यक्ति के द्वारा उन्हें फोन पर सूचना दी गई कि उनके पुत्र की पुलिस हिरासत में मौत हो गई। इसके बाद वो अपने बेटे शुभम सिंह राणा, भाई सचिन राणा व अन्य परिजनों के साथ सिडकुल चौकी पहुंचे। जहां पर उनके मृत पुत्र धीरज को सफेद कपड़ों से सीलपैक करके पुलिसकर्मी कहीं भेजने की फिराक में थे। पुलिसवालों से जब इसके बारे में पूछा गया तो उन्होंने कुछ भी बताने से इंकार कर दिया और घरवालों को भगाने की कोशिश की। जब उन्होंने जोर दिया तब उन्हें अकेले मृतक पुत्र के चेहरे को दिखाया।

 यह भी पढ़े :  तीन घंटे के भीतर दो बुजुर्ग महिलाओं से चेन स्नेचिंग

उन्होंने आरोप लगाया कि पुलिस के अमानवीय कृत्य करने व अनावश्यक पूछताछ करने से उनके पुत्र की मृत्यु हुई है। जिसके लिये सिडकुल चौकी प्रभारी व उनका स्टॉफ जिम्मेदार है। अपर पुलिस अधीक्षक देवेंद्र पिंचा ने बताया कि वीरेंद्र सिंह की तहरीर पर पुलिस ने चौकी प्रभारी व चौकी स्टॉफ के खिलाफ धारा 302 व 342 के तहत केस दर्ज कर लिया है।

ग्रामीणों ने काटा हंगामा, शव वाहन सड़क पर रोका 

रुद्रपुर में पोस्टमार्टम के बाद धीरज का शव लेकर एंबुलेंस उसके घर सिसौना पहुंची। शव पहुंचते ही ग्रामीणों व परिजनों का आक्रोश भड़क उठा। उन्होंने एबुंलेंस को घर के सामने ही सड़क पर ही रोक लिया। आक्रोशित लोगों ने पुलिस पर धीरज को मारने का आरोप लगाते हुए हंगामा कर दिया। कहा की जब तक धीरज को मारने वाले पुलिस कर्मियों के खिलाफ कार्रवाई नही हो जाती तब तक वह शव को घर नही ले जाएंगे।

इसको लेकर ग्रामीणों ने पुलिस अधिकारियों को जमकर खरी खोटी सुनाई। मौके पर पहुंचे अपर पुलिस अधीक्षक देवेंद्र ङ्क्षपचा व एडीएम जगदीशचंद्र कांडपाल ने आक्रोशित लोगों को समझाने का पूरा प्रयास किया। बाद में अधिकारियों ने मौके पर ही तहरीर रिसीव की। तब जाकर लोगों का आक्रोश शांत हुआ व धीरज का शव परिजन घर ले गए।

मामले की होगी सीबीसीआइडी जांच

मृतक के परिजनों की मांग पर अब पुलिस धीरज की मौत की जांच सीबीसीआईडी को सौंपने की तैयारी कर रही है। एसएसपी बरिंदरजीत सिंह सीबीसीआईडी जांच के लिए डीआईजी कुमाऊं को रिपोर्ट भेजेंगे। डीआईजी कुमाऊं की संस्तुति के बाद पुलिस हिरासत में धीरज की मौत की विवेचना स्वतंत्र एजेंसी सीबीसीआईडी करेगी।

मानवाधिकार आयोग को भेजी रिपोर्ट

रुद्रपुर: सितारगंज के सिडकुल चौकी में हिरासत में हुई मौत मामले में पुलिस ने मानवाधिकार आयोग को रिपोर्ट भेज दी है। एसएसपी बरिंदरजीत सिंह ने बताया कि पूरे घटनाक्रम की रिपोर्ट तैयार कर मानवाधिकार आयोग को शुक्रवार को रिपोर्ट भेज दी गई है।

परिजनों की तहरीर के आधार पर केस दर्ज किया जाएगा

बरिंदरजीत सिंह, एसएसपी, यूएसनगर ने बताया कि मृतक धीरज के परिजनों की तहरीर के आधार पर केस दर्ज किया जाएगा। इसके बाद परिजनों की मांग पर डीआईजी कुमाऊं मंडल की संस्तुति के बाद विवेचना स्वतंत्र एजेंसी से कराई जाएगी।

 यह भी पढ़े :  कन्या गुरुकुल कॉलेज में 30 तक दाखिले का मौका