भूस्खलन के मलबे में दबी कार, दिल्ली से मसूरी घूमने आये थे पर्यटक

2033

मानसून की शुरूआत के साथ ही बारिश ने अपना असर दिखाना शुरू कर दिया है। मसूरी में सोमवार देर रात से तेज बारिश जारी थी। तेज बारिश से लंढोर रोड़ पर शिवा कॉन्टिनेंटल के पास सुबह ही पुश्ता दरक गया।

मंगलवार दोपहर बाद मसूरी में दिल्ली से घूमने आये कुछ पर्यटकों की कार पहाड़ी से आये मलबे के नीचे दबकर क्षतिग्रस्त हो गई। गनीमत रही कि पर्यटक कार से उतरकर अभी चंद कदम ही दूर जा पाये थे। यदि यह मलब कुछ सेकेंण्ड्स पहले गिरता तो शायद बड़ा हादसा हो जाता।

यह भी पढ़ें – यूटिलिटि दुर्घटना में एक गर्भवती महिला की मौत, सात घायल

पर्यटक कार पार्क करने के बाद उतरकर कुछ ही दूर गए थे कि इतने में ही डीआरडीओ गेस्ट हाउस परिसर का पुश्ता दरकने लगा, फिर अचानक पूरा पुश्ता नीचे खड़ी कार के ऊपर गिर गया, जिससे कार क्षतिग्रस्त हो गर्इ। गनीमत रही कि पर्यटक घटना से ठीक पहले ही कार से उतरकर आगे बढ़ गए थे।

यह भी पढ़ें – क्या बस हादसे की मुख्य वजह टायर रही होगी ? – रतन सिंह असवाल

साथ ही इस दौरान कोर्इ शख्स सड़क किनारे भी नहीं खड़ा था। वहीं, कुछ ही दूर पर खड़े होकर देख रहे पर्यटकों की सांसे भी थम गर्इ, क्योंकि अगर वो कार से उतरने में जरा सी भी देर करते तो कुछ भी हो सकता था। अचानक हुए हादसे से मौके पर अफरातफरी मच गई। वहीं, घटना के बाद मौके पर भारी भीड़ जुट गर्इ।

यह भी पढ़ें – यौन कुंठाओं, हिंसा, घृणा और उन्माद से धराशायी होता सामाजिक तानाबाना – न्यू इण्डिया ?

बताया जा रहा है कि सुबह भी इसी स्थान पर भूस्खलन हुआ था, लेकिन तब ये इतना ज्यादा नहीं। उस दौरान भी एक कार क्षतिग्रस्त हुई थी। पुलिस ने उन्हें यहां कार पार्क के लिए मना किया था, लेकिन वो नहीं माने। पर्यटकों ने तैनात पुलिस के जवान से लड़ झगड़ कर अपनी कार अपर माल रोड क्षेत्र में डीआरडीओ गेस्ट हाउस परिसर के नीचे खड़ी कर दी।

यह भी पढ़ें – हैंडपंप के लिए खोदे जा रहे गड्ढे से हुआ जहरीली गैस का रिसाव, एक मजदूर की मौत, दो बेहोश

पहाड़ों की रानी मसूरी आजकल पर्यटकों से गुलजार है। भारत के विभिन्न हिस्सों से पर्यटक मसूरी आकर उत्तराखण्ड के नैसर्गिक सौंदर्य का आनंद लेते हैं। इसलिए यहां पर्यटकों की तादाद में इजाफा हो रहा है। वाहनों की लंबी-लंबी कतारें भी यहां देखने को मिल रही हैं। हालात ये हैं कि किसी को जहां जगह मिल रही है अपना वाहन पार्क कर रहे हैं।