हल्द्वानी की पॉश कालोनी में शामिल आदर्श नगर में गहराया जलसंकट, नलकूप का मोटर फुंका

27

कालाढूंगी रोड स्थित आदर्श नगर शहर की पॉश कालोनियों में गिनी जाती है। इस क्षेत्र को जलापूर्ति करने वाले नलकूप की मोटर महीने भर में ही दूसरी बार फुंक गयी है। वहीं चंद दिनों बाद मोटर फुंकने पर लोगों ने जलसंस्थान की कार्यप्रणाली पर सवाल खड़े करने शुरू कर दिए हैं। जलसंस्थान ने इस क्षेत्र में दो टैंकर लगाकर पानी की आपूर्ति शुरू की है।

आदर्श नगर कालोनी में पूर्व के समय में पानी का संकट गहराया रहता था। सद्भावना कालोनी में नलकूप स्थापित होने से लोगों को करीब एक साल से राहत मिली। वहीं नवरात्र के दिनों में नलकूप की मोटर फुंक गयी थी। उस समय एक सप्ताह तक लोग परेशान रहे। अब गुरुवार को मोटर फिर फुंक गयी है। महीने भर में दूसरी बार मोटर फुंकने से क्षेत्रवासियों ने जलसंस्थान की कार्यप्रणाली व मोटर की गुणवत्ता पर सवाल खड़ा करना शुरू कर दिया है।

यह भी पढ़ें :   पालिका ने की भवन कर बढ़ाने की कवायद तेज

लोगों का आरोप है कि नलकूप की मरम्मत में लापरवाही बरती जा रही है। मोटर की गुणवत्ता पर भी ध्यान नहीं दिया जा रहा है। इसका खामियाजा हजारों की जनता को भुगतना पड़ रहा है। एक बार मोटर फुंकने पर कम से कम सप्ताह भर तक पानी का हाहाकार मचता है। इधर जलसंस्थान के अवर अभियंता पंकज उपाध्याय ने बताया कि शुक्रवार सुबह से ही आदर्श नगर में पानी की वैकल्पिक व्यवस्था के लिए दो टैंकरों की डयूटी लगा दी गयी है। लाइनमैन को क्षेत्र में मुस्तैद रहकर पानी बंटवाने के लिए कहा गया है।

कुछ दिन पहले ही नवरात्र के दिनों में पानी की मोटर फुंक गयी थी। उस समय सप्ताह भर तक पानी के लिए परेशान हुए। अब फिर से मोटर फुंकने से पेयजल का संकट खड़ा हो गया है।

– हरीश बेलवाल, आदर्श नगर

आदर्श नगर की सद्भावना कालोनी में नलकूप स्थापित होने से राहत मिली थी। अब बार-बार मोटर फुंकने की समस्या खड़ी होने लगी है। जलसंस्थान को मोटर की गुणवत्ता में सुधार करना चाहिए। जिससे हजारों लोग परेशान न हों।

– गोपाल सिंह, आदर्श नगर

शहर से लेकर गांव तक आए दिन नलकूप खराब हो रहे हैं। कई नलकूपों की मोटर माह भर भी नहीं चलती है। मोटर फुंकने पर जिम्मेदारी तय की जानी चाहिए। इसके कारणों का पता लगाकर दोषियों पर कार्रवाई की जानी चाहिए।

– विकास पांडे, आदर्श नगर

शहर के अधिकांश घरों में बुजुर्ग लोग रहते हैं। युवा कामकाज के सिलसिले में जाते हैं। जलसंस्थान टैंकर तो भेजता है, लेकिन टैंक तक पानी डालने की सुविधा नहीं रहती। बुजुर्गों के लिए पानी ढोकर ले जाना मुश्किल हो जाता है।

– हेमा बर्गली, आदर्श नगर

यह भी पढ़ें :     राहुल को अभी पुराने दिग्गजों में ही तलाशना होगा नया संकटमोचक, जानें कांग्रेस में कौन है