डॉ विजय कुमार जोगदण्डे की अध्यक्षता में जिला सैनिक परिषद पौड़ी गढ़वाल की बैठक आयोजित की गई।

15

जिलाधिकारी गढ़वाल डॉ विजय कुमार जोगदण्डे की अध्यक्षता में आज जिला सैनिक परिषद पौड़ी गढ़वाल की बैठक आयोजित की गई। बैठक में जनपद के पूर्व सैनिकों तथा आश्रितों की समस्याओं के निस्तारण तथा उनके लिए चलाई जा रही विभिन्न योजनाओं के संबंध में चर्चा की गयी। जनपद के दोनों सैनिक कल्याण कार्यालय पौड़ी और लैंसडाउन के इतिहास के बारे में बताया गया।

यह भी पढ़ें :  मुख्यमंत्री श्री तीरथ सिंह रावत से कैंट रोड स्थित कैंप कार्यालय में पर्यटन मंत्री श्री सतपाल महाराज ने भेंट की।

साथ ही जानकारी दी गई कि दोनों कार्यालयों में लगभग 30,000 पूर्व सैनिक, उनकी विधवा वीरांगना तथा आश्रित पंजीकृत है।जिनके कल्याणार्थ प्रयास किए जा रहे हैं। आयोजित बैठक में पेंशनरों को आ रही दिक्कतों के बारे में जानकारी दी गई और बताया गया कि एरियर भुगतान को लेकर संगठन ने बहुत अच्छा कार्य किया है, संबंधित कार्यालयों ने एक करोड़ 28 लाख रुपए का सहयोग किया था जिसका पूर्व सैनिकों ओर आश्रितों को लाभ मिला है।

जिलाधिकारी ने कहा सैनिकों से संबंधित ब्लॉक प्रतिनिधियों का दायित्व रहेगा कि अपने क्षेत्र में पूर्व सैनिकों को आ रही समस्याओं को ढूंढे तथा उसका निस्तारण करें। उन्होंने जिला सैनिक कल्याण अधिकारी को निर्देशित किया कि हर ब्लाक में गोष्ठियोंध् शिविर का आयोजन करते रहें और पूर्व सैनिकों तथा उनके आश्रितों को आ रही समस्याओं का निस्तारण करते रहें। जिलाधिकारी ने कहा कि पौड़ी में कैंटीन के निर्माण की प्रक्रिया के कार्य में तेजी लायी जायेगी साथ ही खराब सड़कों के स्थिति का संज्ञान भी लिया जा रहा है। जिलाधिकारी ने कहा कि गत वर्ष वीर चंद्र सिंह गढ़वाली स्वरोजगार योजना के लक्ष्य के मुताबिक आवेदन नहीं मिल पाए थे,

उन्होंने कहा कि जो पूर्व सैनिक इस क्षेत्र में स्वरोजगार अपनाना चाहते हैं इस योजना के तहत आवेदन कर सकते हैं साथ ही कृषि उद्यान और उद्योग विभाग से अनेक योजनाएं संचालित की जा रही हैं अगर कोई भूतपूर्व सैनिक इनमें भी आवेदन करना चाहता है तो कर सकता है जिसे इसी वित्तीय वर्ष में पूर्ण कर लिया जाएगा। कहा कि सरकार द्वारा संचालित होमस्टे योजना में भी पूर्व सैनिक आर्थिक सहायता ले सकते हैं इसमें लगभग 200 लोगों को लाभ दिया जा सकता है और पूर्व सैनिक सेवानिवृत्ति के समय उपलब्ध धनराशि से स्वरोजगार अपना सकते हैं। जिलाधिकारियों ने पूर्व सैनिकों की समस्याओं को सुनते हुए लैंसडौन कार्यालय के संपर्क सड़क के निर्माण, श्रीनगर में विश्राम गृह में एक्वागार्ड, कूलर मांग पर सहमति दी।

ब्लाक प्रतिनिधियों की समस्या एवं सुझाव को लेकर उन्होंने संबंधित अधिकारी को अपनी समस्या लिखित देने को कहा ताकि उचित कार्यवाही करते हुए समस्याओं का निस्तारण किया जा सके। जिलाधिकारी ने संबंधित अधिकारियों को निर्देशित किया कि पैठाणी और चाकीसैंण में पूर्व सैनिकों के लिए शिविर आयोजित करना सुनिश्चित करें । शिविर का प्रचार प्रसार प्रतिनिधि भली प्रकार से कर ले उन्होंने कहा कि ई सी एच सी के पैनल को मानकों के अनुसार ही सुझाव भेजे जा सकते हैं कहा कि अधिकांश मांगे सड़कों के संबंध में आई है जिनका समाधान कर लिया जाएगा।

बैठक में सैनिक कल्याण अधिकारी पौड़ी मेजर करन सिंह रावत एवं लैंसडाउन मेजर आनंद सिंह अपने अपने कार्यालय में संपादित कार्यों की विस्तृत जानकारी दी। जनपद के वीर सैनिकों की कीर्ति एवं शोर्य से अवगत कराया।

इस अवसर पर उप जिलाअधिकारी पौड़ी एस एस राणा, मुख्य उद्यान अधिकारी डॉक्टर नरेंद्र कुमार, मुख्य कृषि अधिकारी डी एस राणा, सेवा योजन अधिकारी मुकेश रयाल, ब्लाॅक प्रतिनिधि दरबान सिंह, सत्ये सिंह, योगम्बर रावत, फतेहसिंह भण्डारी, महिपाल सिंह रावत, गोविद सिंह, सौरभ सिंह, वीरेन्द्र सिंह नेगी, सुनील सिंह सहित पूर्व सैनिक उपस्थित थे।

यह भी पढ़ें :   अकाली दल के सांसद नरेश गुजराल ने कहा, वनाग्नि रोकने में उत्‍तराखंड सरकार नाकाम