261 विद्यार्थियों की परीक्षा छूटने पर हंगामा, छात्रा बेहोश

55

सरदार भगत सिंह पीजी कॉलेज में सोमवार को 251 छात्र-छात्राओं की समाज शास्त्र विषय की परीक्षा छूटने पर हंगामा हो गया। आक्रोशित विद्यार्थियों और एबीवीपी कार्यकर्ताओं ने कुमाऊं विवि और कॉलेज प्रशासन पर गंभीर लापरवाही का आरोप लगाते हुए कॉलेज गेट पर प्रदर्शन किया। इस दौरान एक छात्रा बेहोश गई। उसे निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

सोमवार को एसबीएस पीजी कॉलेज में बीए तृतीय वर्ष की व्यक्तिगत विद्यार्थियों की भूगोल विषय की परीक्षा थी, लेकिन समाजशास्त्र विषय के व्यक्तिगत छात्र-छात्राएं भी परीक्षा देने के लिए पहुंच गए, जबकि उनकी समाजशास्त्र की उक्त परीक्षा चार जून को चुकी है। इसका पता चलने पर परीक्षार्थियों ने कॉलेज गेट पर प्रदर्शन करते हुए कुमाऊं विवि और कॉलेज प्रशासन पर परीक्षा तिथि की सूचना न देने का आरोप लगाते हुए नारेबाजी की।

 इस खबर को भी पढ़िए :  बार खुला तो जनता के साथ आंदोलन करेगा यूकेडी

सूचना पर परीक्षा प्रभारी डॉ. दुर्गाकांत प्रसाद चौधरी, डॉ. एके पालीवाल, डॉ. हरीश चंद्रा, डॉ. अतीश ने उन्हें समझाने का प्रयास किया, लेकिन छात्र-छात्राओं और एबीवीपी कार्यकर्ताओं ने उनका घेराव कर दोबारा परीक्षा करवाने की मांग की।

विद्यार्थियों ने कहा कि 15 मई को समाजशास्त्र के प्रथम प्रश्न पत्र की तिथि 10 जून में बदलाव करते हुए इस तिथि को आगे बढ़ाने के बजाए पीछे चार जून कर दिया था। कुमाऊं विवि की लापरवाही का खामियाजा 251 विद्यार्थियों को भुगतना पड़ा। चार जून को 769 विद्यार्थी ही परीक्षा दे सके और 251 परीक्षा से वंचित रह गए।

एबीवीपी नगर महामंत्री सौरभ राठौर ने कहा कि गर्मी के चलते कॉलेज प्रशासन से पांच दिनों से परीक्षार्थियों के लिए गेट पर पंडाल लगाने की मांग की थी, लेकिन मांग अनसुनी कर दी गई।

प्रदर्शन में राहुल गुप्ता, श्वेता गुप्ता, शिवम कालरा, राजीव कोली, श्रीराम, विपिन पांडे, असलम, चंद्रप्रकाश, दीपक भट्ट आदि थे।

प्रदर्शन में शामिल छात्रा हुई बेहोश

रुद्रपुर। प्रदर्शन में शामिल छात्रा संगीता मेहरा बेहोश हो गई, जिस पर हंगामा और बढ़ गया। एबीवीपी कार्यकर्ताओं ने छात्रा को रामपुर रोड स्थित निजी अस्पताल में भर्ती कराया। एबीवीपी नगर महामंत्री सौरभ राठौर ने कुछ प्राध्यापकों पर छात्रा के बेहोश होने के बावजूद संवेदनहीनता दिखाने का आरोप लगाया। उधर, छात्रा संगीता को करीब दो घंटे बाद होश आया। प्राचार्य डॉ. दिनेश शर्मा, डॉ. विद्यादत्त उपाध्याय छात्रा का हालचाल जानने अस्पताल पहुंचे।

 इस खबर को भी पढ़िए : दुष्कर्म के आरोपी पर दोष सिद्ध