इंजीनियर समेत 12 ने किया आत्मदाह का प्रयास

374

रुद्रपुर: सिडकुल स्थित समृद्धि कंपनी में आंदोलनरत 12 कर्मचारियों ने केरोसिन उड़ेल कर आत्मदाह का प्रयास किया। मौके पर मौजूद सुरक्षा कर्मियों ने जबरन बोतल छीनकर उन्हें आग से बचाया। सुरक्षा कर्मियों की सूचना पर पुलिस अधिकारी मौके पर पहुंचे और जानकारी जुटाई।

प्लास्टिक के सामान बनाने वाली समृद्धि कंपनी सिडकुल के सेक्टर छह में प्लाट नंबर 24, 25 में स्थित है। कंपनी ने बीते एक जून को नोटिस के माध्यम से घाटे में होने की बात कहकर उत्पादन ठप करने की सूचना दी। जिससे कंपनी के डेढ़ दर्जन स्थाई व अस्थाई कर्मचारी प्रभावित हुए। कंपनी के कर्मचारियों ने बीते पांच माह से वेतन नहीं मिलने पर धरना प्रदर्शन शुरू कर दिया। बाद में आंदोलनरत कर्मचारियों को गेट से बाहर कर दिया गया। मंगलवार को गेट के बाहर धरना दे रहे कर्मचारी दोपहर दो बजे गेट पर पहुंचे।

यह भी पढ़े :   गुटका एजेंसी से 12 लाख का कैश ले गए चोर

जहां उन्होंने सुरक्षा कर्मचारी से पानी मांगा। सुरक्षा कर्मचारी जैसे ही पानी के लिए गेट से हटा वह अंदर आ गए। हाथ में केरोसिन की दो बोतले खोलकर परिसर में स्थित मंदिर के पास अपने ऊपर उड़ेलने लगे। यह देखकर सुरक्षा कर्मचारियों ने दौड़कर उनके हाथ से बोतल छीनने का प्रयास किया। जिससे सुरक्षा कर्मी भी केरोसिन से नहा लिए। सूचना पर सिडकुल चौकी प्रभारी केजी मठपाल पुलिस बल के साथ पहुंचे और घटना की छानबीन शुरू कर दी।

केरोसिन से सराबोर क्वालिटी इंजीनियर राजपाल ने बताया कि बीते दिनों वह वेतन नहीं मिलने की समस्या के साथ डीएम नीरज खैरवाल से भी मिले थे। आरोप है कि डीएम ने किसी भी तरह की सहायता से इंकार कर दिया। जिससे कर्मचारियों में हताशा छाई हुई थी। जिसके बाद उन्होंने सामूहिक रूप से आत्मदाह का निश्चय कर लिया।

इन्होंने किया आत्मदाह का प्रयास

रुद्रपुर: समृद्धि कंपनी परिसर में क्वालिटी इंजीनियर राजपाल चौहान, सफी अहमद, किशन सिंह, विवेक, विनोद कुमार, पवन जोशी, प्रदीप राय, सौरभ गुप्ता, राम प्रकाश, उदय सिंह, चंदन, पुष्पेंद्र सिंह आदि ने आत्मदाह का प्रयास किया। जिसमें उन्होंने अपने ऊपर केरोसिन छिड़क लिया।

आत्मदाह के प्रयास पर हड़कंप

रुद्रपुर: समृद्धि इंडस्ट्रीज लिमिटेड कंपनी में कर्मचारियों के सामूहिक रूप से आत्मदाह के प्रयास से मौके पर हड़कंप मच गया। सुरक्षा में तैनात कर्मचारी भी भय से कांपने लगे। पुलिस के पहुंचने के बाद सुरक्षा कर्मचारी हयात राम, लक्ष्मी दत्त व नवीन ने बताया कि बीते 26 जून से ही वह यहां ड्यूटी पर हैं। इस घटना के बाद उन्हें जान का खतरा पैदा हो गया है। मौके पर आस-पास की कंपनियों के लोग भी एकत्र हो गए।

पहले से था केरोसिन

रुद्रपुर: कंपनी गेट पर तैनात सुरक्षा कर्मियों ने बताया कि कर्मचारी पहले से ही अपने साथ केरोसिन की बोतल लेकर आए थे। जबकि परिसर में स्थित हनुमान मंदिर से उन्होंने माचिस भी लेने का प्रयास किया। जिसे सुरक्षा कर्मियों ने छीन लिया। अन्यथा बड़ी घटना हो सकती थी।

धमकी का भी आरोप

रुद्रपुर: सामूहिक रूप से आत्मदाह का प्रयास कर रहे कर्मचारियों ने कंपनी प्रबंधन पर धमकी देने का भी आरोप लगाया। जिसमें उन्होंने बताया कि 26 जून से पहले कंपनी गेट पर बाउंसर भी तैनात किए गए थे। जबकि आंदोलन खत्म करने के लिए उन्हें जान से मारने की धमकी भी दी गई थी।

यह भी पढ़े :  नेपाल में रोकी गई भारतीय मेडिकल छात्रों की डिग्री, भारतीय दूतावास से गुहार